शिक्षकों पर अविश्वास और उनकी आर्थिक असमानता बेहतर शिक्षा व्यवस्था में बाधक

bsta20052018

लाइव सिटीज, पटना : बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के शैक्षिक परिषद द्वारा ‘शिक्षा के सवाल और संगठन की भूमिका’ विषय पर आयोजित शैक्षिक गोष्ठी का तीसरा और अंतिम चरण रविवार को संपन्न हो गया. अंतिम चरण में भागलपुर, मुंगेर एवं दरभंगा प्रमंडलों के कुल 11 जिले के शिक्षक प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया. राजधानी के जमाल रोड स्थित संघ के कार्यालय के सभागार में आयोजित इस शैक्षिक संगोष्ठी में यह बातें उभर कर सामने आई कि सरकार एवं समाज द्वारा शिक्षकों पर अविश्वास और उनकी आर्थिक असमानता बेहतर शिक्षा व्यवस्था में बाधक बन रही है. एक तरफ दो दर्जन से अधिक गैर शैक्षणिक कार्यों के तले दबे तथा संसाधन विहीन विद्यालयों में शिक्षकों द्वारा अध्यापन का कार्य किया जाता है, फिर भी शिक्षकों को शिक्षा के गिरते स्तर के लिए दोषी करार दिया जाता है.

समापन के अवसर पर बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष सह विधान पार्षद केदारनाथ पांडेय ने राज्यस्तरीय गोष्ठी को वर्तमान समय की अपरिहार्यता बताया. उन्होंने कहा कि 1986 से पूर्व सरकारों की नीति शिक्षा से अधिकाधिक लोगों को जोड़ने की थी लेकिन 1986 के बाद शिक्षा के क्षेत्र में निजी क्षेत्र के लिए दरवाजा खोल दिया गया, जिससे समान शिक्षा नीति की बात बेमानी हो गई. आज शिक्षा के अधिकार का कानून भी कागजों तक सीमित रह गई है.

bsta2005201811

शिक्षा पर सरकार-समाज उदासीन, सरकारी ड्यूटी तक सीमित न रहें शिक्षक : शत्रुघ्न प्रसाद सिंह

आज की शिक्षा व्यवस्था की बदहाली के लिए शिक्षक कसूरवार नहीं : केदारनाथ पांडेय

उन्होंने कहा कि दुनिया में श्रेष्ठ शिक्षा व्यवस्था के लिए जाना जाने वाला देश फिनलैंड के मॉडल को राज्य एवं केन्द्र सरकारों को अपनाना चाहिए, जहां बेहतर भविष्य के निर्माण के लिए शिक्षा के बेहतर संसाधन एवं सुविधाओं के लिए सबसे अधिक बजट शिक्षा का होता है. आगे देखें एक्सक्लूसिव वीडियो, बिहार विधान परिषद के पूर्व सभापति अवधेश नारायण सिंह ने माना, उनके सरकारी बंगले पर एयर होस्टेस और बेटों के बीच मारपीट हुई, अनकट वीडियो में सुनें पूरा कबूलनामा…

इस मौके पर संघ के महासचिव सह पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह के कहा कि शिक्षा और शिक्षकों पर आज की व्यवस्था में जो हमला किया जा रहा है, दरअसल में वह हमला लोकतंत्र और संविधान पर है. आभासी दुनिया का यह हमला हमारे लिए घातक है. अमेरिका की आर्थिक नीति पर आधारित हमारी वर्तमान शिक्षा प्रणाली वर्ग विभाजन और विषमता की खाई को और चौड़ी करने वाली है. परंपरागत विद्यालय की जगह मुक्त विद्यालय को बढ़ावा देना प्रकारांतर से शिक्षकों को अप्रासंगिक बना देने की साजिश है. शैक्षिक परिषद के सचिव शशिभूषण दूबे ने मंच संचालन तथा सभी प्रतिनिधियों का स्वागत करते हुए शिक्षा के विविध सवालों पर संवाद की महत्ता पर प्रकाश डाला.

इस अवसर पर बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रवक्ता अभिषेक कुमार, कार्यालय सचिव रामनरेश सिंह, प्रेस प्रबंधक वामेश्वर शर्मा, प्राच्य प्रभा के प्रधान संपादक विजय कुमार सिंह, संयुक्त सचिव सुरेश प्रसाद राय, अरुण कुमार, विनय मोहन, राजीव कुमार, नागेश्वर प्रसाद साह, मूल्यांकन परिषद के अध्यक्ष जफर इमाम, पटना प्रमंडल माध्यमिक शिक्षक संघ के सचिव चंद्रकिशोर कुमार, पटना प्रमंडल शैक्षिक परिषद के संयोजक रामनारायण सिंह, कौशल किशोर, पटना जिलाध्यक्ष मोख्तार सिंह, राज्य शैक्षिक परिषद् के सदस्य अमित कुमार, अशोक कुमार राय, मुकुल कुमार, चंदन कुमार, नीरज कुमार, भुवनेश्वर पंडित, भगवती पांडेय, मुजीर अहमद आजाद, रंजीत कुमार, वकील राम, मदन दास, रवि कुमार, डॉ अवधेश कुमार, विष्णुदेव प्रसाद यादव सहित शिक्षक मौजूद थे.

Exclusive Video : पिता अवधेश नारायण सिंह के सरकारी बंगले में गंध मचाने वाले बेटे हैं बड़े रंगीन मिजाज, पटना पुलिस ऐसे खोल देगी सारे राज, क्लिक कर वीडियो देखें…

सुपर एक्सक्लूसिव वीडियो : लाइव सिटीज से सब कुछ बयां किया है एयरहोस्टेस ने, क्लिक कर सुनिए खुलासा करती पूरी बातचीत….

About Anjani Pandey 611 Articles
I write on Politics, Crime and everything else.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*