शिक्षकों के वेतन पर ट्रेज़री लॉक मामला : मुख्य सचिव ने मंगलवार को बुलायी शिक्षा – वित्त सचिवों की मीटिंग

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : राज्य के नियोजित शिक्षकों के वेतन भुगतान की समस्याओं के स्थाई निराकरण हेतू बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ का तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल संघ के महासचिव सह पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह के नेतृत्व में बिहार सरकार के मुख्य सचिव दीपक कुमार से सोमवार (11 फरवरी) को मुलाकात की. इस प्रतिनिधिमंडल में विधान पार्षद प्रो संजय कुमार सिंह, विधान पार्षद संजीव कुमार सिंह शामिल थे.

प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य सचिव को बताया कि वित्त विभाग द्वारा शिक्षा विभाग की शिथिलता के कारण उपयोगिता प्रमाण पत्र समर्पित नहीं किये जाने के नाम पर ट्रेजरी लॉक की समस्या उत्पन्न हो जाती है. और शिक्षकों के वेतनादि का भुगतान राशि उपलब्ध रहने के बाद भी वेतन भुगतान ससमय नहीं हो पाता है. ऐसी परिस्थिति  राज्य के संस्कृत, मदरसा सहित अनुदानित विद्यालयों के शिक्षकों के साथ बनी रहती है.

इन सबों ने बताया कि शिक्षा विभाग और वित्त विभाग से पत्राचार, विचार विमर्श एवं अनुरोध के बाद भी 6 से 8 महीनों के वेतनादि के भुगतान नहीं होने से उत्पन्न गंभीर परिस्थितियों से अवगत कराने का लगातार प्रयास किया है. बार-बार अनुरोध एवं वित्त विभाग द्वारा शिथिलिकरण के आदेश निर्गत होते रहे हैं, लेकिन निकासी और व्ययन पदाधिकारी की शिथिलता तथा वित्त विभाग और शिक्षा विभाग के बीच संचिकाओं का आदान-प्रदान होने रहने की संवेदनहीन प्रक्रियाओं के कारण समय पर वेतन भुगतान नहीं हो पा रहा है. इसके कारण पठन-पाठन पर प्रतिकूल असर पड़ता है.

उन्होंने मुख्य सचिव से अनुरोध किया कि शिक्षकों के खाते में वेतनादि की राशि की प्राप्ति हो जाने को ही उक्त आवंटन की उपयोगिता मानी जाए और कोषागार को स्पष्ट आदेश दिया जाए कि वेतनादि की निकारी में बार-बार तालाबंदी (ट्रेजरी लॉक) नहीं की जाए. तभी परेशानी से स्थाई मुक्ति मिल सकेगी. इससे शिक्षक तनावमुक्त रहेंगे और विद्यालयों में बेहतर माहौल स्थापित हो सकेगा.

राज्य के मुख्य सचिव इस मामले को काफी गंभीरता से लिया है और इस मुद्दे के स्थाई समाधान के लिए  मंगलवार (12 फरवरी) को वित्त विभाग और शिक्षा विभाग की बैठक बुलाई है.

About परमबीर सिंह 1537 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*