छिन गए जेडीयू के 2 नेताओं के मंत्री पद, जानिए क्या है कारण?

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण का मतदान कल होना है. उससे पहले जेडीयू को बड़ा झटका लगा है. सरकार में सूचना प्रसारण मंत्री और जेडीयू नेता नीरज कुमार और भवन निर्माण मंत्री और नेता अशोक चौधरी की तकनीकी कारण से दोनों नेताओं के पद चले गए हैं. संवैधानिक बाध्यता के कारण इन दोनों सदस्यों का मंत्री पर समाप्त कर दिया गया है.

बता दें कि जेडीयू नेता अशोक चौधरी और नीरज कुमार बिहार विधान परिषद के सदस्य रह चुके हैं. इन दोनों की सदस्यता 6 मई 2020 को ही समाप्त हो चुकी है. ऐसे में संवैधानिक प्रावधानों के अनुसार विधानमंडल में किसी सदन का सदस्‍य रहे बगैर कोई 6 महीने से ज्‍यादा मंत्री पद पर बरकरार नहीं रह सकता है. इसी कारण दोनों की मंत्रीपद की कुर्सी छीन गई है.



आपको बता दें कि अशोक चौधरी बिहार सरकार में भवन निर्माण मंत्री और नीरज कुमार सूचना एवं जनसम्‍पर्क मंत्री रहे हैं. नीरज कुमार स्नातक कोटे से सदस्य थे. जबकि अशोक चौधरी विधायक कोटे से चुने गए थे. वहीं नीरज कुमार एक बार फिर से पटना क्षेत्र से स्नातक सीट से एनडीए प्रत्याशी के तौर चुनावी मैदान में उतरे हैं. उसका नतीजा अभी नहीं आया है. 12 नंवबर को उसका आएगा.

उधर, अशोक चौधरी के एमएलसी मनोनीत होने की संभावना थी, जो कि आचार संहित लागू हो जाने के कारण नहीं हो सकी. इसी कारण दोनों नेताओं का कार्यकाल 6 महीने में पूरा हो गया है. जिस कारण उन्हें कैबिनेट से हटना पड़ा.