दो नेताजी दे रहे लड़की समेत पूरे परिवार को मारने की धमकी, रेप का है मामला

parsa
अपने परिजनों के साथ पीड़िता

लाइव सिटीज, पटना : 17 जून को पटना के परसा बाजार थाना इलाके से एक पुजारी की 13 साल की बेटी को दो बदमाशों ने जबरन अगवा कर लिया था. फोर व्हीलर गाड़ी में उसे जबरन बैठाकर बदमाश नाबालिग लड़की को अपने साथ बिहटा ले गए. वहां पर एक रिश्तेदार के घर पर रखा. फिर उसे भोजपुर जिले के कोइलवर लेकर चले गए. 3—4 दिनों तक लड़की को वहां रखा. एक बदमाश ने उसके साथ जबरन संबंध बनाया. नाबलिग का रेप किया. जब लड़की के अगवा होने के मामले ने तुल पकड़ा तो गिरफ्तारी के डर से बदमाश ने दो नेताजी की मदद ली. नेताजी की मदद से लड़की को परसा बाजार थाना पहुंचावा दिया. बारी जब कोर्ट में 164 का बयान दर्ज कराने की आई तो दोनों नेताजी ने लड़की के उपर प्रेशर बनाया. लड़की और उसके पिता, भाई और मां को जान से मार देने की धमकी दी.

नेताजी के प्रेशर में आकर लड़की ने शनिवार को पटना के सिविल कोर्ट में वो बयान दिया जो नेताजी चाहते थे. प्रेेशर बनाने वाले दोनों नेताजी कौन हैं और किस पार्टी से हैं? इस बारे में लड़की बता नहीं पा रही है. बस वो इतना जानती है कि उस पर जबरन प्रेशर बनाने वाले लोग नेताजी हैं.

परिवार के खिलाफ ही दे दिया था बयान

लड़की को बगल के गांव के रहने वाले संदेश और टिंकू नाम के दो युवकों ने जबरन उठाया था. मामला सामने आने के बाद एसएसपी मनु महाराज के आदेश पर परसा बाजार में एफआईआर दर्ज हुआ था. कई बार एसएसपी के निर्देश देने के बाद थाने की पुलिस ने छापेमारी कर संदेश को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. लेकिन टिंकू को पुलिस पकड़ नहीं पाई. वो अब भी फरार चल रहा है. पीड़ित लड़की की मानें तो टिंकू ने ही उसका रेप किया. कोइलवर में टिंकू ही दो नेताजी को लेकर आया था. अब यही दोनों नेताजी इस केस को रफा—दफा करवाने में लगे हैं.

नेताजी के प्रेशर में आने के बाद ही पीड़ित नाबालिग ने कोर्ट में अपने परिवार के खिलाफ बयान दे दिया. कोर्ट में लड़की ने कहा कि पिता और भाई के उपर ही उसने गलत नियत रखने का आरोप लगा दिया. जबकि कोर्ट में बयान दर्ज कराने के बाद लड़की अपने परिवार के साथ ही घर गई है.

फिर से दर्ज कराया जाएगा बयान

कोर्ट में बयान दर्ज कराने के बाद लड़की को पटना के एसएसपी मनु महाराज के पास ले जाया गया. एसएसपी को उसने पूरी बात बताई. लड़की ने बताया कि उसने कोर्ट में बयान प्रेशर में आकर दिया है. एसएसपी की मानें तो उनके सामने लड़की ने किसी उप मुखिया का नाम लिया है. उप मुखिया को लड़की पहचानती नहीं है. इसलिए पटना पुलिस कोर्ट में लड़की को दोबारा बयान दर्ज करवाएगी.

संदिग्ध है केस के आईओ की भूमिका

केस के आईओ शालिग्राम शर्मा हैं. इस पूरे केस में इनकी भूमिका संदिग्ध नजर आ रही है. लड़की का कहना है कि कोइलवर से दो नेताजी उसे लेकर परसा बाजार थाना आए थे. नेताजी जी ने जो बयान देने के लिए लड़की के उपर प्रेशर बनाया, उसी बयान पर आईओ ने भी हामी भरी थी. वहीं लड़की के पिता का आरोप है कि आईओ ने उन्हें पीरबहोर थाना आने को कहा. जबकि उनकी बेटी परसा बाजार थाने पर ही आ गई थी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*