माथा फोड़ ले क्या पटना : पहला अल्ट्रासाउंड कहता है – पथरी नहीं है, दूसरा कहता है – पथरी है

लाइव सिटीज, पटना : दोनों रिपोर्ट को ठीक से देख लीजिये. पटना के लोग माथा न पीटें तो और क्या करें. बात-बात के इलाज के लिए तो दिल्ली जाना ही होगा. एक्जीबिशन रोड की रहनेवाली श्रीमती नीरज पंसारी को पेट दर्द की शिकायत थी. उन्होंने सबसे पहले राजेंद्र नगर के गैस्ट्रो-इंट्रोलोजिस्ट डॉ. अमित कुमार बंका को दिखाया. डॉ. बंका ने पेट दर्द का कारण जानने को तुरंत अल्ट्रासाउंड कराने को बोला. डॉक्टर की सलाह पर श्रीमती नीरज पंसारी 26 दिसंबर को राजेंद्र नगर के आर्य कुमार रोड में HDFC बैंक के सामने स्थित Radiology Solutions & Research Center में अल्ट्रासाउंड कराने को गईं. इसे डॉ. राजेश कुमार साहू, डॉ. अजहर हुसैन अंसारी और डॉ. अच्युतानंद झा संचालित करते हैं.

अल्ट्रासाउंड के बाद श्रीमती पंसारी को रिपोर्ट सौंपी गई. इस रिपोर्ट पर डॉक्टर ने ऐसे हस्ताक्षर किया है, जिसे भगवान छोड़कर दूसरा कोई नहीं पढ़ सकता. इस रिपोर्ट में किसी भी प्रकार की पथरी की शिकायत नहीं दी गई है. रिसर्च सेंटर में श्रीमती पंसारी को रेफर करने के लिए डॉक्टर अमित कुमार बंका को थैंक्स भी बोला गया है. अब इस रिपोर्ट को दिखाने जब श्रीमती पंसारी फिर से डॉक्टर बंका के पास पहुंची, तो वे नहीं थे. पर दर्द अब भी बहुत अधिक था.



ऐसे में परिवार ने फैसला किया कि डॉक्टर बंका के आने का इंतजार किये बगैर दूसरे डॉक्टर की सलाह लेते हैं. अब परामर्श को श्रीमती नीरज पंसारी युरोलोजी के विशेषज्ञ डॉक्टर मुकेश कुमार सोनी के पास पहुंची. डॉक्टर सोनी ने मरीज की शिकायत जानी और दिन में ही कराई गई अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट देखी. उन्हें रिपोर्ट पर भरोसा नहीं हुआ. सो, उन्होंने दुबारा अल्ट्रासाउंड कराने को कहा.

अब श्रीमती नीरज पंसारी बेली रोड में गार्डियन हॉस्पिटल के सामने स्थित जेपी डायग्नोस्टिक एंड इमेजिंग में पहुंची. इसे वेल्लोर के पूर्व सीनियर रेडियोलाजिस्ट डॉ. दया प्रकाश संचालित करते हैं. जब दुबारा अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट आई तो श्रीमती नीरज पंसारी की किडनी में पथरी साफ़ दिखी. साइज़ का भी वर्णन रिपोर्ट में किया गया.

तो पटना का सच यह है कि 26 दिसंबर को दो अलग-अलग जगहों पर अल्ट्रासाउंड की अलग-अलग रिपोर्ट आती है. ऐसे में, इलाज क्या हो. श्रीमती नीरज पंसारी अब भी नहीं समझ पा रही हैं कि रिपोर्ट कौन सी सही है. परिवार के लोग फाइनल डिसिजन लेने के पहले पटना पर माथा पीट रहे हैं और आगे दिल्ली का प्लान कर रहे हैं.