रामविलास पासवान ने अब रखी मांग, गरीब सवर्णों को भी मिले 15% आरक्षण

PASWAN-RAMVILAS
रामविलास पासवान (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : लोक जनशक्ति पार्टी सुप्रीमो सह केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भी गरीब सवर्णों के लिए आरक्षण की मांग कर दी है. उन्होंने आज मंगलवार 17 अप्रैल को कहा कि देश के गरीब सवर्णों को भी 15 प्रतिशत आरक्षण मिलना चाहिए. साथ ही प्रमोशन में भी अारक्षण लागू होना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमलोग शुरु से ही गरीब सवर्णों को आरक्षण देने की मांग कर रहे हैं. पासवान का यह बयान देश में अभी चल रहे दलित आरक्षण और SC/ST मुद्दे पर सामने आये विवाद के बाद आया है.

केंद्रीय मंत्री ने इस दौरान कहा कि देश की न्‍यायपालिका में भी कुछ ही परिवारों का कब्‍जा है. इसलिए हमलोग इंडियन ज्यूडीशियल सर्विस के गठन के पक्ष में हैं. उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी की वजह से प्रोन्नति में आरक्षण का मामला लटका है. हमारी सरकार हर हाल में प्रोन्नति में आरक्षण जारी रखेगी. मोदी सरकार इसको लेकर प्रतिबद्ध है.

पासवान ने कहा कि SC/ST मुद्दे पर अगर सुप्रीम कोर्ट का फैसला पक्ष में नहीं आता है तो सरकार अध्यादेश लाने को तैयार है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने एक्ट को मजबूत किया है.

न्यायपालिका में आरक्षण के लिए आंदोलन

इससे पहले 14 अप्रैल को बाबासाहब भीमराव आंबेडकर की जयंती के मौके पर पटना में लोजपा-दलित सेना के कार्यक्रम में पासवान ने कहा था कि अब न्यायपालिका में आरक्षण के लिए आंदोलन होगा. लंबे समय से इसकी मांग होती रही है? वे बतौर केन्द्रीय मंत्री नहीं, लोजपा प्रमुख होने के नाते आंदोलन की वकालत कर रहे हैं.

यहां से शुरू हुआ विवाद

बता दें कि एससी/एसटी एक्ट को लेकर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 2 अप्रैल को देशभर में दलित संगठनों और समाज के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया था. इस दौरान बड़े पैमाने पर हिंसा भड़क उठी थी. दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने दलित उत्पीड़न के मामलों में अग्रिम जमानत के साथ ही प्राथमिक जांच के बाद मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है. पहले इस एक्ट में अपराध गैर जमानती था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*