नीतीश कुमार पर उपेंद्र कुशवाहा गरम, पूछा- कितनी लाशों के बाद होश में आएगा शासन

लाइव सिटीज डेस्क : वैशाली में जंदाहा प्रखंड प्रमुख मनीष सहनी की हत्या से रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा तिलमिला गये हैं. केंद्रीय राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने एनडीए के ही घटक दल जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर अब तक का सबसे बड़ा हमला किया है. उन्होंने बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर मुख्यमंत्री पर निशाना साधा है. बता दें कि सोमवार की दोपहर में वैशाली के जंंदाहा प्रखंड में वहां के प्रमुख की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी है. उधर घटना के विरोध में जंदाहा प्रखंड कार्यालय में आक्रोशित लोगों ने तोड़फोड़ किया है.

केंद्रीय राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा वैशाली के जंदाहा प्रमुख की हत्या को लेकर काफी दुखी हैं. उन्होंने अपने ट्विटर एकाउंट पर इसे शेयर किया है. उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि रालोसपा नेता मनीष सहनी की हत्या काफी दुखद है. उन्होंने कहा कि इस हत्या से उनका मन काफी व्यथित है. लेकिन सबसे बड़ी बात कि इस हत्या के बाद उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार को भी घेरा है. उन्होंने मुख्यमंत्री से कड़े शब्दों में ट्वीट कर सवाल पूछा है कि ‘नीतीश कुमार जी, कितनी लाशों के बाद होश में आएगा शासन?’

उधर रालोसपा के प्रदेश प्रवक्ता जीतेंद्र नाथ ने भी मनीष सहनी की हत्या की तीव्र भर्त्सना की है. उन्होंने कहा कि इस घटना की जितनी निंदा की जाए, वह कम है. उन्होंने बिहार में बढ़ती आपराधिक घटनाओं पर चिंता जतायी है. उन्होंने कहा कि मनीष के हत्यारों को जल्द गिरफ्तार कर कड़ी कार्रवाई की जाए. ऐसा नहीं होने पर रालोसपा के कार्यकर्ता सड़क पर उतरेंगे.

गौरतलब है कि सोमवार को वैशाली के जंदाहा प्रखंड में अपराधियों ने बड़ी वारदात को अंजाम दिया. जंदाहा प्रखंड प्रमुख मनीष सहनी की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. घटना के समय प्रमुख मनीष सहनी अपने कार्यालय में बैठे हुए थे. तभी अपराधियों ने कार्यालय में घुसकर उनके सीने में 3 गोली मारी. जब तक वहां मौजूद अधिकारी व लोग कुछ समझ पाते, तब तक अपराधी फरार हो गये. प्रखंड प्रमुख मनीष सहनी को लोगों ने आनन-फानन में अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वे नहीं बच सके. वहीं इस घटना के विरोध में आक्रोशित लोगों ने प्रखंड कार्यालय में हंगामा और तोड़फोड़ किया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*