महात्मा गांधी सेंट्रल यूनिवर्सिटी के वीसी अरविंद अग्रवाल ने दिया इस्तीफा, झूठ बोलना पड़ा महंगा

अरविंद अग्रवाल का फाइल फोटो.

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार के महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय (महात्मा गांधी सेंट्रल यूनिवर्सिटी) को लेकर बड़ी खबर आ रही है. सूत्रों से मिल रही जानकारी को मानें तो महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय, मोतिहारी के कुलपति अरविंद अग्रवाल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. उनके इस्तीफे को स्वीकृति के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास भेज दिया है. विभाग को उम्मीद है कि वीसी अरविंद अग्रवाल का इस्तीफा स्वीकार कर लिया जाएगा.

दरअसल बिहार के महात्मा केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति अरविंद अग्रवाल शुरू से ही सवालों के घेरे में हैं. कहा जा रहा है कि कुलपति पर पद पाने के लिए अपने अकादमिक परिचय पत्र में जालसाजी करने का आरोप है. इसके बाद मामला काफी आगे बढ़ गया. वे अपने ही विभाग के निशाने पर आ गये. इसके कारण उन्हें इस्तीफा देना पड़ा है.

कहा यह भी जा रहा है​ कि जालसाजी के मामले को मानव संसाधन विकास विभाग ने काफी गंभीरता से लिया है. इसके बाद उन पर इस्तीफा देने का प्रेशर बना. सूत्रों की मानें तो उन्होंने बुधवार को ही अपना इस्तीफा दे दिया. इसके बाद मानव संसाधन मंत्रालय ने इस्तीफे पर अंतिम मुहर के लिए उसे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास भेज दिया गया है.

गौरतलब है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद महात्मा गांधी विश्वविद्यालय के विजिटर भी हैं. ऐसे में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की इस्तीफे पर अंतिम मुहर लगेगी. मीडिया में आ रही खबर के अनुसार अरविंद अग्रवाल पर झूठ बोलने का भी आरोप है. आरोप है कि नौकरी पाने के लिए विदेश में शिक्षा हासिल करने की बात कही थी, जो पूरी तरह गलत है.

कहा जा रहा है कि अरविंद अग्रवाल ने जर्मनी के किसी संस्थान से पीएचडी नहीं की है. उनके बारे में कहा जा रहा है कि असल में वे राजस्थान विश्वविद्यालय से डिग्री ली है. हालांकि इस मामले में अरविंद अग्रवाल से जब मीडिया ने इस बारे में पूछा तो उन्होंने कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया. बहरहाल अरविंद अग्रवाल का इस्तीफा शिक्षा विभाग में चर्चा का विषय बना हुआ है और विभाग की नजर अब राष्ट्रपति के फैसले पर लगी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*