यूपी में शेरों के कोरोना संक्रमित होने के बाद सभी चिड़ियाघरों में सतर्कता बढ़ी, जानवरों के लिए बरती जा रही सतकर्ता

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: जानलेवा कोविड- 19 यानी कोरोना वायरस अब तक केवल इंसानों पर कहर बनकर टूट रहा था। मगर अब मामला एक कदम और आगे बढ़ गया है। अब जानवर भी इसकी चपेट में आने लगे हैं। भले ही ये वायरस इंसान में जानवरों के जरिए पहुंचा हो। मगर अब यही वायरस इंसान वापस जानवरों तक पहुंचा रहा है। उत्‍तर प्रदेश के इटावा जू सफारी के शेर में कोरोना संक्रमण पाए जाने के बाद बिहार में भी वन विभाग अलर्ट हो गया है।

तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए पटना जू प्रशासन जानवरों के खानपान और उनके रखरखाव को लेकर विशेष एहतियात बरत रहा है। पटना जू में जानवरों की देखरेख और उनकी नियमित जांच की जा रही है. राजगीर में भी शुरू होने वाले जू सफारी के लिए लाए गए जानवरों के स्वास्थ्य पर पर भी विशेष नजर रखी जा रही है।

जू में कोरोना संक्रमण का खतरा नहीं हो इसके लिए  मांसाहारी जानवर जैसे शेर, बाघ, तेंदुआ, जंगली कैट, फिशिंग कैट, लेपर्ड, लकड़बग्घा, भेडिय़ा आदि मांसाहारी जानवरों को उबालकर मांस दिया जा रहा है। वहीं चिंपैंजी, लायन टेल्ड मकाक, बंदर, लंगूर को दिये जाने वाले फलों को गरम पानी से धोकर दिया जा रहा है। जानवरों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने के लिए उन्हें इम्युनिटी बढ़ाने वाली दवाएं दी जा रही हैं। विटामिन सी और मल्टीविटामिन दिया जा रहा है। जू में प्रतिदिन सैनिटाइजेशन किया जा रहा है।

बता दें कि पटना के संजय गांधी चिड़ियाघर में 90 से ज्यादा प्रजातियों के करीब 1000 जानवर हैं। जिनकी देखभाल के लिए बड़ी संख्या में कर्मचारी कार्यरत हैं। जानवरों के सभी केज का नियमित सैनिटाइजेशन कराया जा रहा है। जो कर्मचारी जानवरों की देखभाल कर रहे हैं। वह मास्क और ग्लव्स पहनकर ही काम कर रहे हैं।