क्या बाढ़ विधानसभा में राजद नेत्री नमिता नीरज सिंह ध्वस्त कर देंगी भाजपा का मजबूत किला ?

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बाढ़ विधानसभा में वर्त्तमान में भाजपा के विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू हैं, जो कि विगत 15 वर्षों से सत्ता पर काबिज हैं. लेकिन इस बार हवा का रुख कुछ उल्टा दिख रहा है. भाजपा के सामने इस बार राजद मजबूती से खड़ा दिख रहा है. राजद के सभी दावेदारों में प्रबल दावेदार एवं संभावित प्रत्याशी राजद नेत्री नमिता नीरज सिंह ने बाढ़ में एक विशाल जनसभा का आयोजन कर सभी वर्गों के लोगों को एक मंच पर लाकर राजनीतिक भूचाल पैदा कर दी है.जनसभा में क्या बूढ़े, क्या युवा सभी के बीच से एक नारा गूंज उठा – ’15 साल आक्रोश का धीरज, अबकी बार नमिता नीरज’.

बता दें की बाढ़ विधानसभा में राजपूत समुदाय के मतदाता सबसे बड़ी संख्या में है. इसी समुदाय से राजद नेत्री नमिता नीरज सिंह आती हैं तथा एक आंकलन यह बताता है कि राजपूत जाति पर नमिता नीरज की काफी मजबूत पकड़ है. अभी हाल ही में मोकामा विधायक अनंत सिंह के समर्थकों ने नमिता नीरज सिंह का भव्य स्वागत कर जनता में यह संदेश दिया है कि उन्हें अनंत सिंह का आशीर्वाद प्राप्त है.



साथ ही पिछले 4 वर्षों से उनके द्वारा बाढ़ विधानसभा क्षेत्र में किए जा रहे हैं सघन जनसंपर्क अभियान का ही नतीजा है कि दलित एवं अतिपिछड़ा समुदाय में भी उनकी अच्छी खासी पकड़ बन गयी है. विगत चुनावों में देखा गया है कि यादव और मुस्लिम वोट राजद के साथ मजबूती से जुड़ा हुआ है। अगर आगामी विधानसभा चुनाव में बाढ़ में राजपूत एवं भूमिहार जाति का वोट राजद से जुड़ता है तो राजद के लिए यह एक मजबूत समीकरण बनता दिखेगा.

बता दें कि मोकामा विधायक अनंत सिंह का घर बाढ़ विधानसभा के नदावां गांव में पड़ता है. अभी हाल ही में मोकामा विधायक अनंत सिंह ने राजद के टिकट पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर राजनीतिक बाजार को गर्म कर दिया है. ऐसे में बाढ़ विधानसभा में राजद नेत्री नमिता नीरज सिंह को अनंत सिंह के प्रत्यक्ष समर्थन से बाढ़ विधानसभा राजद का अभेद किला बनता दिख रहा है. आगामी विधानसभा चुनाव में संभावित प्रत्याशी नमिता नीरज सिंह बाढ़ में एक बड़ी मतों के अंतर से सीट पर काबिज़ हो जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी.