BREAKING : नीतीश कुमार पर बरसे उपेन्द्र कुशवाहा, बोले – हमारा जदयू से कोई नाता नहीं

उपेंद्र कुशवाहा
उपेंद्र कुशवाहा (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज.सेन्ट्रल डेस्क: पटना में आज रालोसपा अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला. सीएम नीतीश को उन्हे नीच कहने को लेकर कुशवाहा ने आज भी पटना में आयोजित प्रेस वार्ता में  जमकर हमला बोला-.उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि हमारी पार्टी का गठबंधन बीजेपी से है जदयू से नहीं. उन्होंने सीएम नीतीश से एक बार फिर से अपनी बात को वापस लेने की बात कही. वही उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी बासी भात नहीं खाती है.

कुशवाहा ने कहा कि हमारा गठबंधन बीजेपी और लोजपा से

आज पटना में प्रेस वार्ता के दौरान केन्द्रीय मंत्री और रालोसपा के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने सीएम नीतीश और सीट शेयरिंग के मामले पर खुल कर बोले. सीट शेयरिंग के मामले में पर उन्होंने कहा कि हमारा जनाधार बढ़ा है और हमे हमारे औकात के हिसाब से सीट मिलना चाहिए. उन्होंने कहा कि संगठन ओर बीजेपी को इसका आकलन करना चाहिए.

गठबंधन में उनकी पार्टी के अलग होने की बात पर कुशवाहा ने कहा कि हमारा गठबंधन 2014 में दो पार्टियों,  बीजेपी और लोजपा से हुआ था. हमारा जदयू से कोई गठबंधन नहीं है. अगर ऐसी कोई पहल बीजेपी करती है तो हम आगे सोंचेंगे. जब उनसे पूछा गया कि क्या आपको संगठन में तवज्जो नहीं मिल रहा इसपर उन्होंंने कहा कि अगर तवज्जु नहीं मिलता तो सीटों की घोषणा दिल्ली में नीतीश और अमित शाह के प्रेस कांफ्रेंस के कुछ दिन बाद ही हो गई होती.

हम बासी भात नहीं खाते

कुशवाहा ने सीटो के शेयरिंग ओर बिहार कैबिनेट की बात पर कहा की जब लाभ की बात थी तो हमारी पार्टी को नही साथ लिया गया और अब हमें ही नुकसान उठाने को कहा जा रहा है.कुशवाहा ने कहा कि हमारी पार्टी बासी भात नहीं खानेवाली. नीतीश कुमार के कुशवाहा को नीच कहने वाले बयान पर उन्होंने कहा कि उन्हे अपना बयान वापस लेना चाहिए. मैने अमित शाह से भी इस बाबत बात की है और पत्र भी लिखा है.

प्रेस वार्ता के दोरान कुशवाहा ने नीतीश सरकार में शिक्षा व्यवस्था को लेकर जमकर हमला बोला.उन्होने 28 नवंबर को शिक्षा सुधार जन-जन का अधिकार अधिकार हस्ताक्षर अभियान चलाने की घोषणा भी आज की. नीतीश सरकर की शिक्षा व्यवस्था पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि स्कूलो में पढ़ााने वाले टीचर नहीं हैं. बच्चे स्कूल ताते हैं पर टीचर नही होने के कारण अब वे भी नही जा रहे. उन्होेंने कहा कि सरकार को टीचर बहाली की पुरानी प्रक्रिया को बदल देना चाहिए और बेकार शिक्षको को पद से राहत दे देनी चाहिए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*