क्या आप जानते हैं चूड़ियां पहनने से महिलाओं को कौन-कौन से लाभ मिलते हैं?

लाइव सिटीज डेस्क : आपने अक्सर महिलाओं और लड़कियों को हाथों में चूड़ियां पहने देखा होगा. अधिकतर महिलाएं चूड़ियां या कंगन अवश्य पहनती हैं. आमतौर इस संबंध में यही मान्यता है कि चूड़ियां सुहाग की निशानी हैं और इसलिए पहनी जाती हैं. जबकि इस परंपरा के पीछे कुछ और कारण भी हैं. चूड़ियां पहनने से महिलाओं को कई लाभ मिलते हैं.

यहां जानिए चूड़ियां पहनने से महिलाओं को कौन-कौन से लाभ प्राप्त होते हैं –



धातु की चूड़ियों से हड्डियां होती हैं मजबूत

शारीरिक रूप से महिलाएं पुरुषों की तुलना अधिक नाजुक होती हैं. स्त्रियों के शरीर की हड्डियां भी काफी नाजूक रहती हैं. चूड़ियां पहनने के पीछे स्त्रियों को शारीरिक रूप से शक्ति प्रदान करना मुख्य उद्देश्य है.

स्त्रियां सोने या चांदी की चूड़ियां पहनती हैं। सोना और चांदी लगातार शरीर के संपर्क में रहने से इन धातुओं के गुण शरीर को मिलते रहते हैं.

स्वर्ण और रजत भस्म के मिलते हैं लाभ

आयुर्वेद के अनुसार सोने-चांदी की भस्म शरीर को बल प्रदान करती है. सोने-चांदी के घर्षण से शरीर को इनके शक्तिशाली तत्व प्राप्त होते हैं, जिससे महिलाओं को स्वास्थ्य लाभ मिलता है और वे अधिक उम्र तक स्वस्थ्य रह सकती हैं.

घर के दोष होते हैं दूर और पति की बढ़ती है उम्र

एक अन्य मान्यता के अनुसार महिलाएं जब घर में काम करती हैं तो चूड़ियों की आवाज से घर की नकारात्मक ऊर्जा बेअसर हो जाती है. सकारात्मकता बढ़ती है. धार्मिक मान्यता यह है कि जो विवाहित महिलाएं चूड़ियां पहनती हैं, उनके पति की उम्र लंबी होती है. इसी वजह से विवाहित स्त्रियों के लिए चूड़ियां पहनना अनिवार्य है.