रक्षाबंधन को लेकर सज गया पटना बाजार

पटना: भाई—बहन के पवित्र रिश्ते को मजबूती देने वाला त्योहार रक्षाबंधन के लिए यूं तो अभी एक सप्ताह का समय बाकी है, लेकिन फिर भी राखी के इंद्रधनुषी रंगों से सराबोर बाजार अभी ही सजधज कर तैयार है.
studio11
परंपरागत राखी बिक्री का कारोबार करने वाले राजन प्रसाद चौरसिया ने बताया कि हर बार की तरह इस बार भी परंपरागत राखी अन्य राखियों की तुलना में ज्यादा मात्रा में मंगाई गई है. मूंगा व छोटे—छोटे मोती के दानों से बनी रंग—बिरंगी राखियों से हमारी संस्कृति की एक झलक मिलती है. हालांकि  चाइना निर्मित राखियों ने भी बाजार में अपना मुकाम बनाया है, फर्क यह है कि ये राखियां सिर्फ बच्चों की पहली पसंद है. कारण कि इन राखियों में संगीत फूटता है. इसके अलावा, चांदी की designer राखियां भी बाज़ारों में आनी शुरू हो गयी हैं. रक्षाबंधन को अभी एक सप्ताह बाकी है लेकिन फिर भी बिक्री तेज़ है. इन बिक्री में वो राखियां भी शामिल हैं, जिन्हें डाक द्वारा दूर देश में बसे भाइयों को बहनें भेज रही हैं. जिस कारण इस पर्व को लेकर भाई और बहनों में खासा उत्साह अभी से दिख रहा है.
हालांकि दुकानदारों का कहना है कि पिछले वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष राखी के दामों में करीब 10 से 15 फीसदी का इजाफा हुआ है. त्योहार के लिए सजे बाजार में इस बार जहां बच्चों के लिए कार्टून वाली राखी है तो वहीं युवाओं के लिए ‘ओम’ और अलग अलग डिज़ाइनर राखियां मौजूद हैं.
हाई क्लास लोगों के लिए जहां बाजार में सोने और चांदी की सुंदर राखियां उपलब्ध हैं.