पटना सिटी की ‘नंदू कचौड़ी’, गजब का टेस्ट, नीतीश कुमार भी करते हैं पसंद

लाइव सिटीज डेस्क : ( आदित्य नारायण) पटना सिटी का नाम सुनते ही जो तस्वीर हमारे जहन में उभरती है, उसमें भीड़ से खचाखच भड़ी हुई गलियां, शॉपिगं करते लोग और गाड़ियों के हॉर्न का शोर शामिल होता है. मगर इन सबके अलावा पटना सिटी खुद में कई किस्से – कहानियों के साथ-साथ लोकल स्ट्रीट फूड का खजाना भी छिपाये हुए हैं, जिन्हें फील और टेस्ट करने के लिए आपको पटना सिटी को एक्सप्लोर करना होगा. आपने भी पटना सिटी के मिजाज के हिसाब से कई मशहूर चीजें सुनी होगी.

इसी तरह से यहां का अपना अलग ही जायका है. उन्हीं तमाम जायकों के बीच आज हम आपको पटना सिटी का प्रसिद्ध स्व. नंदू की कचौड़ी के बारे में बताने जा रहे हैं. वैसे तो इनकी कचौड़ी पूरे पटना में फेमस हैं पर आप ये जानकर हैरान हो जाएंगे कि एक छोटी सी कचौड़ी की दुकान का स्वाद कई दिग्गज नेता और मुख्यमंत्री भी ले चुके हैं, जिनमें नीतीश कुमार से लेकर नंद किशोर यादव तक शामिल हैं.

अब इतना फेमस कचौड़ी शॉप वो भी सिटी में मौजूद है, तो भुक्खड़ लोगों की नजरों से कैसे बच सकता है. खासकर जो लोग खाने के शौकीन हैं. उन्हें पटना सिटी की गलियों से प्यार हो जाएगा. लाइव सिटीज ने भी पटना सिटी की यात्रा में वहां के फेमस स्ट्रीट फूड नंदू की कचौड़ी का लुत्फ लिया. आपको बता दें कि नंदू की कचौड़ी कोई आम कचौड़ी नहीं होती. इसका पता करना है, तो पटना सिटी के कचौड़ी गली में स्थित स्व. नदूं की कचौड़ी दुकान के इतिहास को आपको जान लेना चाहिए.


क्योंकि यह दुकान करीब 100 वर्षों से बदस्तुर ऐसे ही चलते आ रही है. अभी दुकान के ऑनर केदार प्रसाद हैं. वो नंदू कचौड़ी को 40 सालों से संभालते आ रहे हैं. वो बताते है कि करीब 100 वर्ष पहले उनके पूर्वज स्व. नंदू जी ने कचौड़ी की दुकान की शुरूआत की थी. उस वक्त से लेकर आज तक उनकी चार पीढ़ियां इस दुकान में अपना योगदान दें चुकी हैं. लेकिन किसी ने भी इसके क्वालिटी और साइज से समझौता नहीं किया.

देखे वीडियो :

नंदू की कचौड़ी बाकी कचौड़ियों से अलग हैं. क्योंकि इसमें पड़ने वाले मसाले बाजार से नहीं खरीदे जाते है. बल्कि शुद्ध रूप से घर पर ही तैयार किए जाते है. मसालों की रेस्पी पूछने पर केदार प्रसाद हल्की मुस्कान के साथ कहते है कि वो हमारा सीक्रेट है, “ऐसे कइसे बताअ दी बाबू.” खैर हमें मसालों के बारे में जानकर क्या करना था ?


हमारी नजर तो छोटे-छोटे कचौड़ियों पर थी. पास में ही चटक रंग के आलू दम, जिनका आकर्षण हमें खींच रहा था. जल्द ही जीभ को इनके स्वाद से तृप्त करने का अवसर भी प्राप्त हो गया. हमने भी देर न करते हुए कचौड़ी, आलू दम को कचड़ी के साथ छक-छक कर खाया.


पटना सिटी में स्व. नंदू लाल की मशहूर दुकान में कचौड़ी-आलू दम खाने के लिए आपको महज 12 का मूल्य देना पड़ेगा. ये दुकान सुबह 8 बजे से लेकर शाम 9 बजे तक खुली रहती है. अगर आप भी यहां जाने की प्लानिंग कर रहे है, तो टाइम को ही फॉलो करें. नहीं तो कचौड़ी खाने की आपकी मंशा पर पानी फिर सकता है.

सबसे खास बात यह कि कचौड़ी को परोसने का तरीका आपको लुभा जाएगा कचौड़ी-आलू और कचड़ी पत्ते के डोंगा में सर्व किया जाता है. और भाई डोंगा में कचौड़ी-आलू खाना,मजे ही मजे हैं .