अक्षय कुमार ‘पैडमैन’ तो सहरसा की ऋचा बनी ‘पैडवुमन’

सहरसा (मनीष सिंह) : मासिक धर्म के दौरान सेनेटरी नैपकिन के प्रचलन ने महिलाओं में आत्मविश्वास बढ़ाया है. आज युवतियां दुकानों से बेझिझक सेनेटरी पैड खरीदती हैं. बल्कि सोशल मीडिया पर भी इस मुद्दे पर खुलकर बात सामने रखती है. मिथिला पेंटिंग के माध्यम से अपनी कला का प्रदर्शन करने वाली सहरसा जिले के सहसौल गांव निवासी अधिवक्ता की पुत्री ऋचा राजपूत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रेलमंत्री पियूष गोयल को ट्विटर पर बिहार के सभी रेलवे स्टेशन और ट्रेनों में सेनेटरी नेपकिन उपलब्ध कराने की मांग की है.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि सफर में केवल एक पैड होता है और जब ट्रेन लेट हो जाती है तब काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है. उन्होंने रेल मंत्री से सभी ट्रेन में यह सुविधा उपलब्ध कराने की मांग की है. जानकारी हो कि पश्चिमी देशों में महिलाएं सेनेटरी नेपकिन पर खुल कर बात करती हैं. वे बेहिचक दुकानदारों से पैड खरीदती है. इसलिए वहां पुरुष ज्यादा सजग रहते हैं और महिला मित्र या पत्नी का ख्याल रखते हैं. पैडमैन ने कह दी ये बात- 1 बम कम बनाएं और महिलाओं को ये पैसा सैनिटरी नैपकिन खरीदने के लिए दें

भारत में अभी स्त्री-पुरुष खुलकर इस पर बात तो नहीं करते हैं लेकिन यहां पर भी बदलाव शुरू हो चुका है. मासिक धर्म के पांच दिनों में वे समाज और परिवार से अलग-थलग नहीं रहतीं. स्कूल-कालेज जाती हैं. जॉब के लिए निकलती हैं. किचन में खाना बनाती हैं और थाली परोस कर परिवार को खिलाती भी हैं. यह एक बड़ा बदलाव है. झिझक समाप्त कर युवा लड़कियां दकियानूसी सोच से बाहर निकल रही है.

जानकारी हो कि महिलाओं की स्वास्थ्य और सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए भोपाल रेल मण्डल ने एक नया प्रयोग किया है. भोपाल के रेलवे स्टेशन पर महिलाओं के लिए सेनेटरी नेपकिन की उपलब्ध कराई जा रही है. नववर्ष के मौके पर रेलवे स्टेशन पर सेनेटरी नैपकिन डिस्पेंसर लगाया गया है. इधर ऋचा का ट्विटर पोस्ट काफी वायरल हो रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अन्य ने ट्विटर पर ऋचा के पोस्ट को लाइक व रिट्विट कर रहे हैं.

About Razia Ansari 1267 Articles
बोल की लब आज़ाद हैं तेरे, बोल जबां अब तक तेरी है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*