हर मर्ज का एक इलाज है काला अंगूर, आज ही से खाने की आदत डाल लें, आईए जानें इसके बेमिसाल फायदे

लाइव सिटीज डेस्क : अंगूर एक सुगंधित लता वाला फल है. अंगूर की पांच जातियां- तीन हरे और दो काले रंग की होती हैं. अंगूर में भस्म, अम्ल, शर्करा, गौंद, ग्लूकोज, कषाय द्रव्य, साइट्रिक, हाइट्रिक, रैसेमिक और मौलिक एसिड, सोडियम और पोटेशियम और क्लोराइड मेग्नीशियम आदि होता है. आज इस आर्टिकल में हम आपको काले अंगूर के अनेक फायदों के बारे में बताएंगे. अंगूर मधुमेह और कैंसर रोगियों के लिए फायदेमंद है. काले अंगूर में हेरोस्टिलवेन नामक पदार्थ पाया जाता है जो एंटीऑक्सीडेंट है.



अंगूर खाने से खून में शुगर की मात्रा भी कम होती है. इसलिए मधुमेह रोगी को भी अंगूर खाने की सलाह दी जाती है. हरे अंगूर की तुलना में काले अंगूरों में ओरोस्टिलवेन की मात्रा अधिक होती है, जिसे खाने से खून का संचार बदलता है. एनीमिया होने पर अंगूर खाने से तुरंत फायदा होता है. अंगूर ग्लूकोज, शुगर, आयरन और खून की कमी को दूर करता है. आधा कप अंगूर रोज़ पीने से खून की कमी दूर होती है. आईये जानते हैं काले अंगूर से होने वाले बेमिसाल फायदों के बारे में.

काले अंगूर से होने वाले अन्य फायदे

यदि आपको जुकाम है तो प्रतिदिन 50 ग्राम अंगूर खाएं. जल्द जुकाम से छुटकारा मिल जाएगा.

निम्न रक्तचाप के बारे में ये बाते जानते हैं आप
अंगूर खाने से आपका ब्लड प्रेशर भी सामान्य बना रहता है.

कैंसर रोग में पहले कुछ दिन थोड़े अंगूर के रस का सेवन करें फिर धीरे-धीरे एक गिलास तक पीने की आदत डालें. फायदा मिलेगा.

टायफाइड बुखार में मुनक्का (सूखा अंगूर) का सेवन ज़रूर करें. यह पेट भी साफ़ करता है और मल भी जमा नहीं होने देता.

चेचक के रोगी को अंगूर खिलाना चाहिए. उन्हें जल्द आराम मिलेगा.

माइग्रेन का दर्द सूर्योदय से पहले प्रारंभ होता है और सूर्य के साथ ही बढ़ता जाता है. इससे पीड़ित लोगों को आधा कप अंगूर का रस सूर्योदय से पहले पीने से सिरदर्द ठीक हो जाता है.

हृदय में दर्द होने पर अंगूर का आधा कप रस पियें. आराम मिलेगा. अंगूर को नमक, काली-मिर्च के साथ खाने से कब्ज में लाभ होता है. गुर्दे के दर्द में अंगूर के ताजा पत्ते लगभग 50 ग्राम पानी में पीसकर थोड़ा नमक मिलाकर छान लें. इसे रोगी को पिलाने से दर्द में लाभ होता है.