भारत में पहली बार हो रही है काले टमाटर की खेती, अंदर से लाल और बाहर से होता है काला

लाइव सिटीज डेस्क : आपने मार्केट में लाल-लाल टमाटर देखें होंगे, हरे रंगे के टमाटर भी देखे होंगे लेकिन क्या आपने काले रंग के टमाटर देखे हैं? य़ायद आपने नहीं देखा होगा और ना ही इसके बारे में सुना होगा. लेकिन हम आपको बता दें कि यह टमाटर आपको भारतीय बाजारों में बहुत जल्द देखने को मिल जाएंगे. यह टमाटर बहुत ही खास है.

दरअसल, भारत में काले टमाटर की खेती पहली बार होने जा रही है. इस खास टमाटर को लोगों के द्वारा काफी पसंद किया जा रहा है और अब इसके बीज भारत में भी उपलब्ध हैं. अंग्रेजी में इसे इंडि‍गो रोज टोमेटो कहा जाता है.



काले टमाटर के बीज ऑस्ट्रेलिया से मंगवाए

हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के ठाकुर अर्जुन चौधरी बीज विक्रेता हैं. अर्जुन चौधरी के पास काले टमाटर के बीज उपलब्द हैं. उन्होंने एक हिन्दी बेबसाइट को दिए गए इंटरव्यू में बताया, ”मैने काले टमाटर के बीज ऑस्ट्रेलिया से मंगवाए हैं. इसकी खेती भी लाल टमाटर की तरह ही होती है. इसके लिए कुछ अलग से करने की जरूरत नहीं होगी.” उन्होंने बताया, ”अभी तक भारत में काले टमाटर की खेती नहीं की जाती है, इस वर्ष पहली बार इसकी खेती की जाएगी.” काले टमाटर के बीज का एक पैकेट जिसमें 130 बीज होते हैं 110 रुपए का मिलता है.

काला टमाटर की नर्सरी सबसे पहले ब्रिटेन में तैयार की गई थी

काला टमाटर की नर्सरी सबसे पहले ब्रिटेन में तैयार की गई थी, लेकिन आब इसके बीज भारत में भी उपल्बध हैं. किसान इसके बीज ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं. अर्जुन चौधरी ने इसकी खासियत बताते हुए कहा, ”इसकी खास बात यह है कि इसकों शुगर और दिल के मरीज भी खा सकते हैं.” यह बाहर से काला और अंदर से लाल होता है. इसको कच्‍चा खाने में न ज्यादा खट्टा है न ज्यादा मीठा, इसका स्वाद नमकीन जैसा है.

यह टमाटर गर्म क्षेत्रों के लिए अच्छे से उगाया जा सकता है

”यह टमाटर गर्म क्षेत्रों के लिए अच्छे से उगाया जा सकता है. ठंढे क्षेत्रों में इसे पकने में दिक्कत होती है,” अर्जुन चौधरी बताते हैं, ”क्योंकि यह टमाटर भारत में पहली बार उगाया जा रहा है इस लिए इसके रेट भी अच्छे मिलेंगे.”

जनवरी महीने में इसकी नर्सरी की बुवाई की जा सकती है

उन्होंने बताया कि जनवरी महीने में इसकी नर्सरी की बुवाई की जा सकती है और मार्च के अंत तक इसकी नर्सरी की रोपाई की जा सकती है. यहा टमाटर लाल टमाटर के मुकाबले थोड़ा देर से होता है. लाल टमाटर करीब तीन महीने में पक कर निकलना शुरू हो जाता है और इसको पकने में करीब चार महीने का समय लगता है.