महादेव पर चढ़ाने से लेकर कई गुणों से भरपूर होता है धतूरे का पौधा, बीमारियां हो जाती हैं छू मंतर

लाइव सिटीज डेस्क : दुनिया में कई सारे ऐसे पौधे हैं जो बहुत ही लाभकारी माने जाते हैं. आयुर्वेद में उसका एक अलग ही महत्व होता है. कई पौधे ऐसे भी होते हैं जिन्हें हिन्दू धर्म में महत्वपूर्म माना जाता है. इनमें से एक है धतूरा. धतूरे के पौधे का इस्तेमाल हिन्दू धर्म में भगवान को चढ़ाने और भांग बनाने के लिया किया जाता है. इसके अलावा धतूरे का इस्तेमाल आयुर्वेदिक औषधि बनाने के लिए किया जाता है.

दरअसल, आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर धतूरा सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है. धतूरे का सेवन दमा, शरीर में सूजन, गर्भधारण, मिर्गी, बवासीर और कमजोरी जैसी अनेक बीमारियों को दूर करने में मदद करता है. आज हम आफको धतूरे के सेवन से दूर होने वाली बीमारियों के बारे में बताने जा रहें हैं.

1. बवासीर

धतूरे के फूल या पत्तियों को जला लें. इसके बाद इसके धुएं से बवासीर के मस्सों की सिकाई करें. इसके अलावा धतूरे के पत्तों को पीसकर इसका सेवन करने से भी बवासीर की समस्या खत्म हो जाती है.

2. गठिया

धतूरे का रस निकालकर तिल के तेल में मिक्स करके गर्म करें. इसके बाद इस तेल से दर्द वाली जगहें पर मालिश करें. नियमित रूप से इसकी मालिश गठिया रोग को दूर कर देती.

3. बदन दर्द

धतूरे की पत्तियों, फूल, बीच को पीसकर पेस्ट बना लें. इस पेस्ट को सरसों या तिल के तेल में पका लें. इस तेल को दर्द वाली जगहें पर लगाने से आपको दर्द से तुरंत आराम मिल जाएगा.

4. गर्भधारण

2.5 ग्राम धतूरे के चूर्ण में घी मिक्स करके रोजाना सेवन करें. इससे महिलाओं को जल्दी गर्भधारण करने में मदद मिलती है.

5. आंख में दर्द

आंख में दर्द, सूजन या इंफेक्शन को दूर करने के लिए इसके अर्क की कुछ बूदें डालें. इससे आपको तुरंत आराम मिल जाएगा.

6. कान दर्द

कान दर्द होने पर 250 मि.ग्राम सरसों का तेल, 60 मि.ग्राम गंधक और 500 ग्राम धतूरे के पत्तों को धीमी आंच पर पकाएं. इसके बाद इस तेल की 2 बूंदे कान में डालें. इससे कान का दर्द तुरंत गायब हो जाएगा.

7. बुखार

बुखार या कफ होने पर 125 -250 मि.ग्राम धतूरे के बीजों की राख मरीज को दें. इससे बुखार या कफ गायब हो जाएगा.

About Ritesh Kumar 2024 Articles
Only I can change my life. No one can do it for me.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*