अब ‘बाबूमुशाय’ से खफा पहलाज निहलानी, फिल्म में 48 जगह चलेगी कैंची

लाइव सिटीज डेस्क : बॉलीवुड की फिल्मों को सेंसर बोर्ड की धारदार तलवार से होकर गुजरना होता है. इसमें भी कई बार विवाद ही जाता है. अक्सर फिल्मों की बोल्ड सीन और कुछ संवाद को लेकर उस पर कैंची चलती है. अब इस कड़ी में बॉलीवुड एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी अभिनीत फिल्म ‘बाबूमुशाय बंदूकबाज’ पर सेंसर बोर्ड की तलवार लटक रही है.

सीबीएफसी प्रमुख पहलाज निहलानी के मुताबिक फिल्म में 48 कट लगाने की जरूरत है. जी हां, आपने सही पढ़ा. बाबूमुशाय बंदूकबाज पर 48 जगह सेंसर बोर्ड की कैंची चल सकती है. इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक जब पहलाज से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वह बस अपना काम कर रहे हैं. नवाजुद्दीन सिद्दीकी की यह फिल्म ट्रेलर रिलीज होने के तुरंत बाद चर्चा में आ गई थी. फिल्म में नवाजुद्दीन को एक सड़क छाप बिगड़ैल गुंडे के किरदार में दिखाया गया है जो कई तरह की अलग-अलग गतिविधियों में संलिप्त रहता है.

गौर करने की बात यह भी है कि पहलाज द्वारा फिल्म में 48 जगह कैंची चलाने की यह खबर उनके पदार्पण की खबर के बाद आई है. इस फिल्म में कई बोल्ड सीन हैं. जो ट्रेलर में देखा जा चुका है. ट्रेलर में नवाजुद्दीन का देसी रोमांटिक स्टाइल बेह‍तरीन है. फिल्म 25 अगस्त को रिलीज होने जा रही है.

इससे पहले पहलाज को पहले महिलावादी फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ से काफी परेशानी थी. जिसके बाद उन्होंने शाहरुख खान की ‘जब हैरी मेट सेजल’ में इस्तेमाल किए शब्द इंटरकोर्स पर सवाल खड़े कर दिए. इसके बाद उनकी मांग थी कि अमर्त्य सेन की डॉक्यूमेंट्री ‘द आर्ग्यूमेंटेटिव इंडियन’ से गुजरात, गाय शब्दों को हटाया जाए. अब हाल ही में स्क्रीन पर चेतावनी जारी किए जाने के बाद उन्हें एक्टर्स के ऑन स्क्रीन शराब और सिगरेट पीने से दिक्कत है. इसके बाद अब उनका अगला निशाना नवाजुद्दीन की यह फिल्म बनी है.

यह भी पढ़ें – आमिर खान के ‘दंगल’ बेटी की फिल्म ‘सीक्रेट सुपरस्टार’ का पोस्टर रिलीज