FTII चेयरमैन बनते ही अनुपम खेर का विरोध भी शुरु

anupam-kher-ftii

लाइव सिटीज डेस्क : बॉलीवुड अभिनेता भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) के चेयरमैन पद पर अभिनेता अनुपम खेर को नियुक्त किया गया है और खेर की नियुक्ति की घोषणा के साथ ही उनका विरोध शुरू हो गया है. खेर को लेकर छात्र यूनियन का कहना है यह हितों का टकराव का मामला है.

बता दें कि नये चेयरमैन की नियुक्ति के दिन ही 47 छात्रों ने प्रशासन के खिलाफ मास बायकॉट करने का फैसला किया है. ऐसे में अनुपम खेर की नियुक्ति के साथ ही एकबार फिर विवाद शुरू होने के आसार दिख रहे हैं. दरअसल दूसरे वर्ष में पढ़ने वाले 5 छात्रों को FTII से निष्काषित कर दिया गया है.

इन छात्रों को तीन दिनों के भीतर हॉस्‍टल छोड़कर कैंपस से बाहर जाने को कहा गया है. सेकंड ईयर के बाकी छात्रों को भी कार्रवाई का नोटिस दिया गया है. ये पूरा विवाद सेकंड ईयर के छात्रों को डायलॉग वाली शॉर्ट फिल्‍म बनाने के लिए तीन दिन दिये जाने के बजाये सिर्फ दो दिन दिये जाने को लेकर शुरू हुआ है.

क्यों हुआ था गजेंद्र चौहान का विरोध
दो साल पहले गजेंद्र चौहान के चेयरपर्सन बनने पर छात्रों ने उनका कड़ा विरोध किया था और यह विरोध काफी लंबे समय तक चला भी था. संस्थान के छात्रों को साफ तौर पर लगता था कि चौहान में उनका चेयरपर्सन बनने की काबिलियत नहीं है. चौहान को लेकर उन्होंने काफी विरोध किया, लेकिन चौहान ने पद से हटने से इंकार कर दिया था. चौहान के चेयरपर्सन बनने का विरोध करने वाले छात्रों का कहना था कि वो संस्थान के प्रमुख रह चुके गिरीश कर्नाड, श्याम बेनेगल, मृणाल सेन व महेश भट्ट जैसे चंद फिल्मकारों के सामने कहीं नहीं टिकते, इसलिए उन्हें हटाया जाए.

अनुपम खेर ने भी किया था विरोध
छात्रों ने ही नहीं, कई बॉलीवुड हस्तियों ने भी इसका विरोध किया था, जिसमें अनुपम खेर का नाम भी शामिल है. उन्होंने कहा था कि निश्चित रूप से एफटीआईआई को गजेन्द्र जी की योग्यता की तुलना में और अधिक योग्य व्यक्ति की जरूरत है. उन्होंने कहा था कि मैं निश्चित रूप से मानता हूं कि गजेन्द्र जी बतौर निर्माता, निर्देशक या अभिनेता के रूप में काबिल नहीं हैं.

क्यों हो रहा है अनुपम खेर का विरोध
गजेंद्र चौहान के बाद अब खेर भी छात्रों के निशाने पर आ गए हैं. संस्थान के छात्र संघ ने आरोप लगाया कि यह हितों के टकराव का मामला है, क्योंकि खेर मुंबई में अपना खुद का अभिनय प्रशिक्षण संस्थान चलाते हैं. एफटीआईआई छात्र संघ (एफएसए) ने साथ ही देश में असहिष्णुता को लेकर बहस के दौरान खेर की ओर से दिए गए बयानों और ‘सरकार के कुछ विचारों का प्रचार करने’ की उनकी कोशिशों पर भी आपत्ति जताई है.

एफटीआईआई क्या है
एफटीआईआई एक सरकारी संगठन है और 1960 से फिल्म जगत से जुड़े कोर्स करवा रहा है. पहले एफटीआईआई दिल्ली में था और 1974 में इसे पुणे में शिफ्ट किया गया था. देश के टॉप फिल्म इंस्टीट्यूट में से एक एफटीआईआई से कई फिल्मी हस्तियां पास हुई हैं.

यह भी पढ़ें- अनुपम खेर बने FTII के नए चेयरमैन, लेंगे गजेंद्र चौहान की जगह
करवाचौथ पर Lover को दें Princess Cut Diamond, चांद बिहारी ज्वैलर्स लाए हैं नया कलेक्शन
स्मार्ट बनिए आ रही DIWALI में, अपने Love Bird को दीजिए Diamond Jewelry
अभी फैशन में है Indo-Western लुक की जूलरी, नया कलेक्शन लाए हैं चांद बिहारी ज्वैलर्स
PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़े, आज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)