स्पॉट बॉय से ‘शोमैन’ बने राज कपूर, हिन्दी सिनेमा को दी है कई अच्छी फ़िल्में

लाइव सिटीज डेस्क: हैप्पी बर्थडे राज कपूर. जी हां दोस्तों आज फिल्म जगत के महान अभिनेता शोमैन कहें जाने वाले राज कपूर का जन्मदिन है. तो आईये आपको बताते हैं उनके रोचक किस्से. राज कपूर का जन्म 14 दिसंबर 1924 को पेशावर, उत्तर पश्चिम सीमांत प्रांत में हुआ था. राज कपूर की फ़िल्मों की कहानियां आमतौर पर उनके जीवन से जुड़ी होती थीं और अपनी ज्यादातर फ़िल्मों के मुख्य नायक वे खुद होते थे.

शायद आपको ये बात नहीं पता होगी की फिल्म जगत के ‘शोमैन’ कहे जाने वाले दिवंगत अभिनेता, राज कपूर को पहली ही फिल्म में जोरदार थप्पड़ पड़ा था. राज कपूर का व्यक्तित्व कुछ अलग ही रहा है. उनके फिल्मी करियर की शुरुआत भी उनकी तरह ही निराली है. क्या आपको पता है कि हिंदी सिनेमा में अपनी अलग पहचान बनाने वाले राज कपूर का फिल्मी करियर एक चांटे के साथ शुरू हुआ था.



पेशावर (पाकिस्तान) में जन्मे राजकपूर अपने पिता पृथ्वीराज कपूर के साथ मुंबई आए और यहां उन्होंने अपनी जिंदगी की एक नई शुरुआत की. उनके पिता ने उन्हें मंत्र दिया कि राजू नीचे से शुरुआत करोगे तो ऊपर तक जाओगे. पिता की इस बात को गांठ बांधकर राजकूपर ने 17 साल की उम्र में रंजीत मूवीकॉम और बाम्बे टॉकीज फिल्म प्रोडक्शन कंपनी में स्पॉटब्वॉय का काम शुरू किया.

उस वक्त के मशहूर निर्देशकों में शुमार केदार शर्मा की एक फिल्म में क्लैपर ब्वॉय के रूप में काम करते हुए राज कपूर ने एक बार इतनी जोर से क्लैप किया कि फिल्म के हीरो की नकली दाड़ी क्लैप में फंसकर बाहर आ गई. राज कपूर की इस हरकत पर केदार शर्मा को बहुत गुस्सा आया और उन्होंने गुस्से में आकर राज कपूर को एक जोरदार चांटा रसीद कर दिया.

आपको बता दें कि आगे चलकर केदार शर्मा ने ही अपनी फिल्म ‘नीलकमल’ में राजकपूर को बतौर नायक लिया था. राज कपूर को अभिनय अपने पिता पृथ्वीराज से विरासत में मिली थी. राज कपूर अपने पिता पृथ्वीराज कपूर के साथ रंगमंच पर काम करते थे. उनके अभिनय करियर की शुरुआत पृथ्वीराज थियेटर के मंच से ही हुई थी.