टिस्का ने महिलाओं से पूछा होटल के कमरों में जाती क्यो हो?

Tisca-Chopra

लाइव सिटीज डेस्कः यौन उत्पीड़न के मामले में जिस प्रकार मामले अदालत में आते रहे हैं और इस मामले में जहां हमेशा से महिलाएं पुरुषों पर आरोप लगाती रही है, उससे ठीक उलट बयान अभिनेत्री टिस्का चोपड़ा का आया है.

टिस्का ने ट्विटर पर #metoo नाम से चल रहे कैंपेन पर अपनी बात रखी है. साल 2007 में ‘तारे जमीन पर’ में काम करने वाली एक्ट्रेस टिस्का चोपड़ा ने भी कास्टिंग काउच को लेकर हमला बोला था. उन्होंने कहा था कि कास्टिंग काउच को लेकर बॉलीवुड में डायरेक्टर्स मौजूद हैं जो कीड़े जैसे हैं.

अभिनेत्री टिस्का चोपड़ा का कहना है कि यौन उत्पीड़न के मामले में महिलाएं भी बराबर दोषी हैं क्योंकि वह खुद को उस असुरक्षित स्थिति में ले जाती हैं. टिस्का ने कहा, ‘यह महिलाएं होटल के कमरों में क्यों जाती हैं? इन्हें खुद की सुरक्षा का खयाल नहीं?’ उन्होंने कहा, ‘बतौर एक महिला मैं कहूंगी पहले खुद की रक्षा करो.

‘टिस्का ने एक ट्वीट में लिखा था, ‘एक अस्थायी ना, विनम्र ना और ना का मतलब ‘आशंका’ हो सकती है.एक खराब ना का अर्थ हां है. मुझ पर थोड़ा और जोर दो मैं मान जाऊंगी.’