बिहार के शेल्टर होम की असली सच्चाई दिखाने जा रहे कुमार नीरज, चर्चा में हिंदी फिल्म ‘नफीसा’

लाइव सिटीज, इंटरटेनमेंट डेस्क: सच्ची घटना पर आधारित फिल्में बनाने के लिए जाने जानेवाले राइटर-डायरेक्टर कुमार नीरज लोगों के बीच अब बिहार के जीवंत मुद्दे को एक बार फिर से पर्दे पर दिखाने जा रहे हैं. बिहार के माथे पर कलंक की वो कहानी जिसने सबको झकझोर के रख दिया था. अब उसी शेल्टर होम की घटना को राइटर-डायरेक्टर कुमार नीरज पर्दे पर दिखाने जा रहे हैं अपनी हिंदी फिल्म नफीसा के जरिए.

कुमार नीरज की मानें तो ये उनकी मोस्ट अवेटेड फिल्मों में से एक है, जिसपर कई महीनों से काम चल रहा था, लेकिन कुछ निजी कारणों और कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन की वजह से उनका ये प्रोजेक्ट कुछ समय के लिए रुक गया था. लेकिन अब खबर ये है कि इस हिंदी फिल्म की शूटिंग मार्च से शुरू होने जा रही है जिसकी खूब चर्चा है.

कुमार नीरज कोई नया नाम नहीं है. इससे पहले भी वो भोजपुरी जगत में अशलीलता को लेकर अपने दिए बयान के कारण सुर्खियां बटोर चुके हैं. उनकी कुछ मजेदार फिल्मों की सूची में गैंग्स ऑफ बिहार का नाम भी शामिल है, जिसका इंतजार भी उनके फैंस बेसब्री से कर रहे हैं.

हिंदी फिल्म नफीसा के बारे कुमार नीरज का कहना है कि ये फिल्म बिहार के माथे पर लगे उस कलंक की कथा को पर्दे पर जीवंत करेगी और असली सच्चाई भी बताएगी. इस फिल्म के प्रोड्यूसर वैशाली देव, वीणा शाह, मुन्नी सिंह और खुश्बू सिंह हैं.

फिल्म की शूटिंग मार्च से शुरू होगी, लेकिन लोगों में अभी से ही इसे देखने और इसके बारे में जानने को काफी उत्सुकता है. बहरहाल देखना ये है कि कुमार नीरज अपनी इस फिल्म के जरिये लोगों को क्या संदेश देते हैं