पहली बार रात को भी गश्त कर रहीं महिला जवान, कड़कड़ाती ठंड में भारत-पाक सीमा पर डटी हैं

लाइव सिटीज डेस्क : 26 जनवरी 1950 के दिन भारत देश का संविधान लागू हुआ था. संविधान को 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा अपनाया गया था. तब से लेकर आज तक हर साल इस दिन हम देश की गौरवशाली परंपरा और सैन्य शक्तियों का उत्सव मनाते हैं.

देश आज 69वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. आइए इस मौके पर जानते हैं महिला जवानों के बारे में जिन्हें अब भारत-पाक बॉर्डर पर तैनाती मिली है.

यह फोटो श्रीगंगानगर से सटी भारत-पाक सीमा का है. कड़कड़ाती ठंड में यहां धुंध के बीच बार्डर पर यहां महिला जवानों को तारबंदी पर गश्त के लिए तैनात किया गया है. सुखद पहलू यह है कि बीएसएफ ने सुरक्षा को लेकर यह बड़ा बदलाव पूरे राजस्थान में लागू किया है. पहले रात को केवल पुरुष जवानों की ही ड्यूटी लगाई जाती थी.

अब पहली बार महिला जवानों को भी रात को तारबंदी पर लगाया जा रहा है. महिला जवानों की पूर्व में ड्यूटी केवल दिन में ही लगाई जाती थी. यह प्रयोग पहले बाड़मेर सीमा में शुरू किया गया था.

 

सफल होने के बाद अब इसे पूरे राजस्थान में प्रभावी कर दिया गया है. महिला जवान घड़साना की सरोज, छिंदवाड़ा की रजनी व सीकर के पलसाना की पिंकी रात की ड्यूटी से बहुत खुश हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*