सामान्य लड़कों से ज्यादा फिल्म के हीरो को देखकर क्यों एक्साइटेड हो जाती हैं लड़कियां?

लाइव सिटीज डेस्क : लड़कियां बिना वजह किसी को अपना दिल नहीं देती. अगर वो किसी लड़के से प्यार कर रही हैं तो उसमें ज़रूर उनका कोई न कोई स्वार्थ छुपा है. लड़की तबतक किसी को अपने दिल में नहीं बिठाती जब तक उसे अपनत्व न लगे. जब किसी लड़के की बात उसके दिल को अच्छी लगती है तभी वो लड़के के नजदीक जाती है. लेकिन ये बातें हीरो को देखकर लड़की भूल जाती है. ऐसा क्यों?

हीरो को देखने के बाद वो कैसे उससे प्यार करने लग जाती हैं

जिस हीरो को वो सिर्फ परदे पर ही देखी है उसे अपना दिल कैसे दे सकती है. ये आपके लिए सवाल होगा. लड़के भी कई बार ऐसी लड़कियों से पूछते हैं कि फिल्मी परदे पर हीरो को देखने के बाद वो कैसे उससे प्यार करने लग जाती हैं और इतने साल से वो चक्कर लगा रहे हैं उन्हें घास भी नहीं डालती.

जो फिल्म में देख रही हैं वैसा वो हीरो असल लाइफ में भी हो जरूरी नहीं

लड़कियां आम लड़कों की बजाय किसी हीरो को देखकर इसलिए खुश हो जाती हैं क्योंकि वो हमेशा ये देखती हैं कि हीरो कैसे किसी हीरोइन के लिए सबकुछ कर लेता है. वो कहानी के साथ ही जुड़ जाती हैं. उन्हें ये भूल जाता है कि वो रील है और उनकी खुद की जिंदगी रीयल है. यानी की जो फिल्म में देख रही हैं वैसा वो हीरो असल लाइफ में भी हो जरूरी नहीं.

फिल्म देखती हैं तो हीरोइन की जगह खुद को देखने लगती हैं

लड़कियां जब भी कोई फिल्म देखती हैं तो हीरोइन की जगह खुद को देखने लगती हैं. ये उनके अंदर की संवेदनाएं होती हैं जो उन्हें ऐसा सोचने पर मजबूर करती हैं. समाज में लड़कियों के साथ आय दिन कोई न कोई घटना हो ही जाती है. इससे आम लड़कों को देखते ही लड़कियां समझ जाती हैं कि वो भी उन्हीं में से एक है. ऐसे में जब भी कोई आम लड़का उन्हें प्रपोज करता है तो वो हां नहीं करतीं.

लड़कियों को अपनी सुरक्षा की जिम्मेदारी लेने वाला लड़का चाहिए

लड़कियों को अपनी सुरक्षा की जिम्मेदारी लेने वाला लड़का चाहिए, लेकिन जिस तरह से समाज में घटनाएं हो रही हैं उससे लड़कियों का दिल टूट जाता है. लड़कों पर से उनका विश्वास उठ जाता है. वो उन लड़कों को भी उसी केटेगरी में देखती हैं जैसे की कोई मुजरिम हो.

ये लड़के खुद अपनी स्थिति ऐसी बनाएं हैं

इसमें लड़कियों की कोई कमी नहीं है. ये लड़के खुद अपनी स्थिति ऐसी बनाएं हैं. इतना ही नहीं किसी लड़की के साथ रहने पर भी लड़का दूसरी लड़की को देखता है. इससे लड़की को उस पर और गुस्सा आता है. उसे ये सब फिल्म के हीरो में नजर नहीं आती, क्योंकि कहानी दूसरे हिसाब से लिखी जाती है.

हीरो कुछ अच्छा करते हुए दिखाया जाता है

भले ही वो फिल्म है, लेकिन उसमें हीरो कुछ अच्छा करते हुए दिखाया जाता है. इससे लड़की उसके प्रति प्यार से भर जाती है. यही कारण है कि लड़कियां हीरो का सपना भी देखती हैं. इतना ही नहीं कुछ तो शादी और हनीमून तक का सपना भी देख लेती हैं. आम लड़कों को भी कुछ इस तरह से अपनी छवि सुधारनी चाहिए.

लड़कियां हीरो को देखकर उत्तेजित हो जाती हैं

इस तरह लडकियां हीरो को देखकर उत्तेजित हो जाती है – लड़के भी हीरो की तरह अच्छा काम करें और बुराई को छोड़ दें तो लड़कियां बहुत जल्दी उन्हें भी प्यार करने लगेंगी. वो हीरो को सपनों में देखना भूल जाएंगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*