पॉकेट में इस्तीफा रखने वाले अब्दुल कलाम का आज जन्मदिन है …

abdul-kalam

लाइव सिटीज डेस्क : मिसाइल मैन के नाम जाने वाले अब्दुल कलाम का आज 15 अक्टूबर 1931 को जन्म हुआ था. डॉ कलाम हमारे देश के पूर्व राष्ट्रीयपति ही नहीं बल्कि एक अच्छे वैज्ञानिक भी थे. इन्होने साइंस और वैज्ञानिक जगत में इतना नाम कमाया है की इनकी जितनी तारीफ की जाये काम है. डॉ. कलाम को भारतीय मिसाइल प्रोग्राम का जनक कहा जाता है. डॉ. कलाम बच्चों में भी बहुत लोकप्रिय थे. कलाम की बचपन से दिली ख्वाहिश थी कि वे फाइटर पायलट बनें. उन्होंने एरोस्पेस इंजीनियरिंग में पढ़ाई की और बाद में डीआरडीओ के साथ काम किया. उन्होंने अपनी जिंदगी के 40 महत्वपूर्ण साल डीआरडीओ और आईएसआरओ की सेवा में गुजारे.

आपको ये भी बता दें की इन्होनें अपने जीवन में कई ऐसे काम किए थे, जो आज भी हमारे लिए प्रेरणादास्पद हैं. उनकी जिंदगी से जुड़े कई अहम किस्से हैं, जो हमारा हमेशा मार्गदर्शन करते हैं. आइए जानते हैं उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ प्रेरणादायक बातों के बारे में…

अब्दुल कलाम ना सिर्फ अच्छे वैज्ञानिक थे, बल्कि बहुत अच्छे इंसान भी थे. सभी को साथ लेकर चलने वाले कलाम साहब जानवरों से भी उतना ही प्यार करते हैं, जितना इंसानों से करते हैं. एक बार डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) में उनकी टीम बिल्डिंग की सुरक्षा को लेकर चर्चा कर रही थी. टीम ने सुझाव दिया कि बिल्डिंग की दीवार पर कांच के टुकड़े लगा देने चाहिए. लेकिन डॉ कलाम ने टीम के इस सुझाव को ठुकरा दिया और कहा कि अगर हम ऐसा करेंगे तो इस दीवार पर पक्षी नहीं बैठेंगे.

इस्तीफा रखते थे साथ

डीआरडीओ के पूर्व चीफ की मानें तो ‘अग्नि’ मिसाइल के टेस्ट के समय कलाम काफी नर्वस थे. उन दिनों वो अपना इस्तीफा अपने साथ लिए घूमते थे. उनका कहना था कि अगर कुछ भी गलत हुआ तो वो इसकी जिम्मेदारी लेंगे और अपना पद छोड़ देंगे.

डीआरडीओ में काम का काफी दवाब रहता था. एक बार साथ में काम करने वाला एक वैज्ञानिक उनके पास आया और बोला कि उसे समय से पहले घर जाना है. दरअसल वैज्ञानिक को अपने बच्चों को प्रदर्शनी दिखानी थी. डॉ कलाम ने उसे अनुमति दे दी. लेकिन काम के चक्कर में वह भूल गया कि उसे जल्दी घर जाना है. बाद में उसे बड़ा बुरा लगा कि वो अपने बच्चों को प्रदर्शनी दिखाने नहीं ले जा सका. जब वह घर गया तो पता चला कि कलाम के कहने पर मैनेजर उसके बच्चों को प्रदर्शनी दिखाने ले जा चुका था.

1 करोड़ 70 लाख युवाओं से की थी मुलाकात

एक बार कुछ नौजवानों ने डॉ कलाम से मिलने की इच्छा जताई. इसके लिए उन्होंने उनके ऑफिस में एक पत्र लिखा. कलाम ने राष्ट्रपति भवन के पर्सनल चैंबर में उन युवाओं से न सिर्फ मुलाकात की बल्कि काफी समय उनके साथ गुजार कर उनके आइडियाज भी सुनें. आपको बता दें कि डॉ कलाम ने पूरे भारत में घूमकर करीब 1 करोड़ 70 लाख युवाओं से मुलाकात की थी.

साहस पर डॉ कलाम ने अपनी एक किताब में एक घटना का जिक्र किया है. उन्होंने लिखा है कि जब वो SU-30 MKI एयर क्राफ्ट उड़ा रहे थे तो एयर क्राफ्ट के नीचे उतरने पर कई नौजवान और मीडिया के लोग उनसे बातें करने लगे. एक ने कहा कि आपको 74 साल की उम्र में सुपरसोनिक फाइटर एयरक्राफ्ट चलाने में डर नहीं लगा? इस पर डॉ कलाम का जवाब था, ’40 मिनट की फ्लाइट के दौरान मैं यंत्रों को कंट्रोल करने में व्यस्त रहा और इस दौरान मैंने डर को अपने अंदर आने का समय ही नहीं दिया.

यह भी पढ़े- देश की शान बढ़ाने चंदन तिवारी गई हैं एमस्टरडम, चल रहा है ‘भूंजल भात’ म्यूजिक फेस्ट
Kaand Ho Gaya Kaand, जब पटना के बॉयज हॉस्टल में घुस गई वो...
कब तक रहेंगे किराये में : कीमतें बढ़ने के पहले खरीदें 9 लाख का फ्लैट, ऑफर में Gold Coin भी
iPhone 8 पटना को सबसे पहले गिफ्ट करेगा चांद बिहारी ज्वैलर्स, सोने के सिक्के तो फ्री हैं ही
करवाचौथ पर Lover को दें Princess Cut Diamond, चांद बिहारी ज्वैलर्स लाए हैं नया कलेक्शन
धनतेरस पर बेस्ट आॅफर दे रहे हैं हीरा-पन्ना ज्वैलर्स, Turkish जूलरी के साथ Gold Coin भी फ्री
स्मार्ट बनिए आ रही DIWALI मेंअपने Love Bird को दीजिए Diamond Jewelry
अभी फैशन में है Indo-Western लुक की जूलरीनया कलेक्शन लाए हैं चांद बिहारी ज्वैलर्स
PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदेंमुफ्त में मिलेगा GOLD COIN
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स मेंप्राइस 8000 से शुरू
चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़ेआज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)