मैथिली लोक संगीत पर झूमे दिल्ली वाले, उदित नारायण और कुंज बिहारी ने बांधा समा

लाइव सिटीज डेस्क : बिहारी मिट्टी की खुशबु ऐसी होती है कि हर किसी को अपना बना लेती है. कुछ ऐसा ही हुआ दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में. जब मैथिली लोक संगीत और नृत्य ने लोगों का मन मोह लिया. मशहूर पार्श्व गायक उदित नारायण झा और मिथिलांचल के मशहूर कलाकार कुंज बिहारी मिश्र ने समां बांधा. दर्शकों को खूब झुमाया. लोगों ने गीतों का खूब आनंद उठाया. अखिल भारतीय मिथिला संघ की स्वर्ण जयंती के अवसर आयोजित समारोह में मिथिलांचल के अन्य मशहूर कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति से लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया.

अखिल भारतीय मिथिला संघ के अध्यक्ष विजय चंद्र झा ने कहा, “इस स्वर्ण जयंती समारोह का आयोजन जगदगुरु पुरी पीठाधीश्वर शंकराचार्य श्री निश्चलानंद सरस्वती के सानिध्य में किया गया.” उन्होंने बताया कि संस्था ने दिल्ली के साथ-साथ मिथिला तक कला और संस्कृति सहित मैथिली भाषा के विकास को लेकर काफी काम किया है.



ऐसे थे ‘जानी’ कहने वाले राज कुमार के तेवर, डायरेक्टर के सामने कुत्ते से पूछकर ठुकरा दी थी फिल्म

उन्होंने कहा, “मिथिला क्षेत्र में बड़ी लाइन बनवाने और तेज गति की ट्रेनों को शुरू करवाने का अथक प्रयास लगातार संघ ने किया है. संस्था मिथिला क्षेत्र की कला, साहित्य, पर्यटन आदि के विकास के लिए भी लगातार प्रयासरत है.”

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मिथिला लोककला और पुस्तक प्रदर्शनी का शुभारंभ किया. समारोह में उल्लेखनीय काम करने वाली हस्तियों को मिथिला की विभूतियों के नाम पर स्थापित बाबा साहेब चौधरी, सर गंगानंद, नागार्जुन और भोगेंद्र झा सम्मान से सम्मानित किया गया. कार्यक्रम में गृहमंत्री राजनाथ सिंह, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, बीजेपी नेता प्रभात झा, जेडीयू महासचिव संजय झा, महाबल मिश्रा और हुकुमदेव नारायण समेत कई गणमान्य लोग मौजूद रहे.