जेसिका लाल हत्याकांड, इंसाफ के लिए दिल्ली क्या पूरा देश एक साथ आ गया, केस को दोबारा खोलना पड़ा

लाइव सिटीज डेस्क : 29 अप्रैल 1999…18 साल पहले…रात के 2 बजे, दिल्ली का टैमरिंड कोर्ट रेस्टोरेंट…जेसिका ने शराब परोसने से मना कर दिया तभी गोली चलती है…पहली गोली हवा में और दूसरी जेसिका के सिर में लगी और उसके बाद मनु अपने दोस्तों के साथ फरार हो गया. इस हत्याकांड के बाद राजधानी में सनसनी फैल गई थी. उसका हत्यारा और कोई नहीं मनु शर्मा था, जो कि हरियाणा के कद्दावर कांग्रेसी नेता विनोद शर्मा का बेटा है. लिहाजा जेसिका लाल मर्डर केस में इंसाफ की राहें मुश्किल हो गईं. सात साल तक चले मुकदमे के बाद फरवरी 2006 में सभी आरोपी बरी हो गए.



भारत में क्राइम रेट जिस हिसाब से बढ़ा है, वाकई चिंता का विषय है. आए दिन होती इन घटनाओं ने लोगों के दिलों में खौफ और आतंक भर दिया है. मानवीय इतिहास में सीरियल किलिंग की घटनाएं काफी पुरानी हैं. हम आज आपको बताने जा रहे हैं जेसिका लाल हत्याकांड के बारे में. एक मशहूर मॉडल जेसिका लाल की कहानी जिसे महज शराब ने परोसने की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ी.

18 साल पहले मशहूर मॉडल जेसिका लाल की हत्या हुई थी… 29 अप्रैल 1999 को महरौली स्थित कुतुब कोलोनेड रेस्तरां में सोशलाइट बीना रमानी ने पार्टी दी थी. इसमें राजधानी की कई नामी हस्तियों ने शिरकत की थी.

रात में कांग्रेसी नेती विनोद शर्मा का बेटा सिद्धार्थ वशिष्ठ उर्फ मनु शर्मा अपने दोस्तों के साथ वहां पहुंचा. रात के 2 बज रहे थे पार्टी में शराब सर्व होने का टाइम खत्म हो चुका था. तभी मनु शर्मा ने जेसिका लाल से शराब की मांग की.

नाराज मनु शर्मा ने अपनी पिस्टल से फायरिंग की

जेसिका ने शराब परोसने से मना कर दिया था. नाराज मनु शर्मा ने अपनी पिस्टल से फायरिंग की. पहली गोली हवा में और दूसरी जेसिका के सिर में मारी. उसके बाद मनु अपने दोस्तों के साथ फरार हो गया. हत्या करने वाला हरियाणा के कद्दावर कांग्रेसी नेता विनोद शर्मा का बेटा है. लिहाजा जेसिका लाल मर्डर केस में इंसाफ की राहें मुश्किल हो गईं. सात साल तक चले मुकदमे के बाद फरवरी 2006 में सभी आरोपी बरी हो गए.

आरोपियों के बरी होने के बाद भी जेसिका का परिवार निराश नहीं हुआ. उसकी बहन ने नए सिरे से इस केस में जान फूंकने की कोशिश की. यह मामला मीडिया में उछला. उसके बाद तो जेसिका लाल मर्डर केस में इंसाफ के लिए दिल्ली क्या पूरा देश एक साथ आ गया. इस केस को दोबारा खोलना पड़ा. फास्टट्रैक कोर्ट में केस चला. उसके बाद जेसिका के हत्यारे मनु शर्मा को उम्र कैद की सजा सुनाई गई.

मनु शर्मा को उम्र कैद की सजा मिलने के बाद पूरे देश में खुशी की लहर दौड़ गई. लेकिन राजनीतिक रसूख की वजह से मनु शर्मा समय-समय पर जेल से बाहर आता रहा. इसी दौरान उसने मुंबई की एक लड़की से शादी भी कर ली. वह ‘फरलो’ पर दो हफ्ते के लिए जेल से बाहर आया चंडीगढ़ में शादी रचा ली. मनु और उस लड़की के बीच 10 साल पुरानी जान-पहचान बताई गई. सजा की वजह से उसकी शादी टल गई थी.

फिल्म ‘नो वन किल्ड जेसिका’ बनी

2011 में जेसिका लाल मर्डर केस से प्रभावित होकर फिल्म ‘नो वन किल्ड जेसिका’ बनाई गई. इसमें फिल्म अभिनेत्री रानी मुखर्जी और विद्या बालन प्रमुख भूमिका थे. सच्ची घटना पर आधारित फिल्म नो वन किल्ड जेसिका ने बॉक्स ऑफिस पर भी खूब धमाल मचाया था. इसके अलावा फिल्म हल्ला बोल की कहानी भी जेसिका मर्डर केस से प्रभावित थी. दोनों फिल्मों में आम आदमी और मीडिया की ताकत को दर्शाया गया था.

तारीख-दर-तारीख…जेसिका लाल मर्डर केस

29-30 अप्रैल 1999 जेसिका लाल की कुतुब कोलोनेड रेस्तरां में हत्या
6 मई 1999 मनु शर्मा ने चंडीगढ़ में सरेंडर किया

12 अक्टूबर 2001 बीना रमानी ने मनु की पहचान की
21 फरवरी 2006 पटियाला हाउस कोर्ट ने सभी 9 आरोपियों को बरी किया

18 दिसंबर 2006 हाई कोर्ट ने मनु शर्मा को दोषी करार दिया
20 दिसंबर 2006 मनु शर्मा को हत्या में उम्रकैद, सबूत नष्ट करने में विकास यादव और अमरदीप सिंह गिल को 4-4 साल कैद

2 फरवरी 2007 मनु शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की
19 अप्रैल 2010 सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा