जानें क्या होता है ट्रेन के डिब्बों पर लिखे इन अंकों का मतलब, 4,5, 6 अंकों की संख्याओं का अर्थ

लाइव सिटीज डेस्क : हम सभी अकसर एक शहर से दूसरे शहर तक जाने के लिए रेलगाड़ियों का इस्तेमाल करते हैं. कई बार आपने ट्रेनों के डिब्बों पर कई नंबर लिखे देखे होंगे. कई बार आपके मन में सवाल उठते होंगे कि इनका मतलब क्या होता है. आइए आज आपको बताते हैं इन नंबरों का क्या अर्थ होता है.

कोच पर आमतौर से 4, 5 या 6 अंकों की संख्याएं अंकित होती है, जिसमें से पहले दो अंक निर्माण वर्ष को दर्शाते हैं. उदाहरण के लिए 8439 जिसका अर्थ है 1984 में निर्मित, 04052 जिसका अर्थ है 2004 में निर्मित या फिर 92132 जिसका अर्थ है 1992 में निर्मित कोच.

कुछ मामलों में पहले दो अंक उस वर्ष का प्रतिनिधित्व करते हैं जिसमें कोच को क्षेत्रीय रेलवे में स्थानांतरित किया गया था और कभी-कभी उस वर्ष का प्रतिनिधित्व भी करते हैं जिस वर्ष कोच को फिर से बनाया गया था. लेकिन, उत्तर रेलवे की कुछ राजधानी गाड़ियों के कोचों पर अंकित संख्या इस पैटर्न पर आधारित नहीं होती. उन गाड़ियों के कोच पर 2951/2 या 2953/4 इत्यादि संख्या अंकित होती हैं.

उदाहरण से समझिए नंबरों के मतलब
8439 – यह कोच 1984 में निर्मित हुआ था, 39 का मतलब समग्र 1 एसी + एसी -2 टियर कोच
04052 – यह कोच 2004 में निर्मित हुआ था और 052 का मतलब एसी -2 टियर है.
9213 – यह कोच 1992 में निर्मित हुआ था और 132 का मतलब एसी -3 टियर है.

कोच को आईसीएफ ICF (Integral coach factory) और आरसीएफ RCF (Rail Coach factory) में निर्मित किया गया था. हाल ही में आधुनिक कोच फैक्टरी में निर्माण करने की भी योजना बन रही हैं.

04052 नंबर की दाईं ओर डब्ल्यू सी आर (WCR)लिखा है. इसके अलावा एस आर (SR) भी लिखा होता है, इनका क्या मतलब है?

डब्ल्यू सी आर (WCR) का मतलब है कि इस कोच को पश्चिम मध्य रेलवे को आवंटित किया गया है. ईआर (ER) का मतलब पूर्वी रेलवे और एनएफ (NF) का मतलब उत्तरी-सीमान्त, SR का मतलब दक्षिण रेलवे है.

कुछ कोच पर संख्याओं के वर्णों के रूप में प्रत्यय भी दिखाई दे सकते हैं. इस प्रक्रिया के तहत 3, 4 या 5 अंकीय सीरियल नंबर वाले कई पुराने कोचों को पुन: नामित किया गया है. अक्सर रेलवे जोन को प्रदर्शित करने के लिए उसके संक्षिप्त नाम को प्रत्यय की तरह प्रयोग किया जाता है. उदाहरण के लिए किसी कोच का नंबर ‘ER 89472A‘ या ‘SE978052A‘ भी हो सकता है.

2000 के बाद से, निर्माण वर्ष के रूप में ’00’, ’01’, आदि को कोच पर शुरुआती संख्या के रूप में दर्शाया जाता है. कभी-कभी, रेलवे जोन को प्रदर्शित करने के लिए उसके संक्षिप्त नाम को उपसर्ग के रूप में प्रयोग किया जाता है. उदाहरण के लिए ‘SK 01252 AB’ – जहां ‘SK’ उस कोच को इंगित करता है जिसकी देखभाल संयुक्त रूप से दक्षिण मध्य रेलवे और कोंकण रेलवे द्वारा किया जाता है.

001-025 – एसी प्रथम श्रेणी (AC first class). एनईआर (NER) पर, 2000/2001 के कुछ निर्मित डिब्बे या कोच
026-050 – समग्र 1 एसी + एसी -2 टी (Composite 1AC + AC-2T)
051-100 – एसी -2 टी (AC-2T) यानी 2 टियर एसी
101-150 – एसी -3 टी (AC-3T) यानी 3 टियर एसी
151-200 – सीसी (एसी चेयर कार) CC (AC Chair Car)
201-400 – एसएल (द्वितीय श्रेणी स्लीपर) SL (2nd class sleeper)
401-600 – जीएस (सामान्य द्वितीय श्रेणी) GS (General 2nd class)
601-700 – 2 एस (द्वितीय श्रेणी सिटींग / जन शताब्दी चेयर कार) 2S (2nd class sitting/Jan Shatabdi chair cars)
701-800 – एसएलआर SLR (Seating cum Luggage Rake)
801+ – पैंट्री कार, वीपीयू, आरएमएस मेल कोच, जनरेटर कार आदि.

About Ritesh Sharma 3275 Articles
मिलो कभी शाम की चाय पे...फिर कोई किस्से बुनेंगे... तुम खामोशी से कहना, हम चुपके से सुनेंगे...☕️

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*