अंतरिक्ष विज्ञान के सहायक प्रोफेसर शिवम के पुस्तक की विदेशों में धूम

araa

लाइव सिटीज डेस्क (पुष्कर पाण्डेय) : 25 से 30 वर्ष की उम्र में लोग अपनी चिंता में लीन रहते हैं. कैसे करियर बनेगा, कैसा जीवन सुधरेगा, मगर एक ऐसा शख्स है जो ऊंचे पद पर रहते हुए भी अपने हम उम्र के बारे में सोचता है. उनकी सोच, उनके सपने और उनके आदर्शों को धरातल पर लाने का प्रयास करता है एक शख्स, वह शख्स है शिवम.

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी भोजपुर के डॉ. राजेश किशोर साहू के पुत्र शिवम अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा कर बिहार का नाम रोशन किया है. युवा प्रतिभा शिवम चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में वर्ष 2016 से अंतरिक्ष विज्ञान में सहायक प्रोफेसर के रूप में कार्यरत हैं. शिवम ने अपनी पहली पुस्तक ‘यू आर गॉड’ लिखी, जो देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी काफी चर्चित रही. उन्होंने आज के युवाओं के लिए अंग्रेजी भाषा में एक पुस्तक प्रकाशित किया है, जिसका नाम  ‘How to analyse your true potential’ है. उनकी यह पुस्तक पहली पुस्तक की तरह विदेशों में काफी चर्चित हो रही है.

यह पुस्तक मुख्य रूप से आज के युवा वर्ग के लिए लिखी गई है. शिवम के पिता डॉ. राजेश किशोर साहू पटना के अशोकपुरी खाजपुरा के निवासी हैं. दो बहन एवं एक भाई में शिवम सबसे छोटा है. अपनी नई पुस्तक के संदर्भ में शिवम ने बताया कि आज के 80 से 90 प्रतिशत युवाओं की सबसे बड़ी समस्या उनकी लक्ष्य का निर्धारण नहीं होना है. वैसे युवाओं को अपनी रुचि के अनुसार अपना लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए तथा एक जुनून के तहत अपने लक्ष्य को परिणित करना चाहिए.

araa

शिवम ने अपने विश्लेषण में मन में व्याप्त डर को खत्म करने पर विशेष बल दिया एवं उसे एक बड़ी समस्या के रूप में इंगित किया है. उसने अपनी पुस्तक में कहा है कि अपने अंदर के आत्मविश्वास को धीरे-धीरे एक क्रम में विकसित करने की जरूरत है. सतत प्रयत्नशीलता ही सफलता का राज है. छोटे-छोटे बातों में बदलाव किसी भी व्यक्ति को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. शिवम ने बताया कि जल्द ही इस पुस्तक का लोकार्पण बिहार में किया जाएगा.

यह भी पढ़े – पटना में शुरू हो रहा है ‘रोटी बैंक,’ गरीब अब भूखे नहीं सोएंगे !
नक्सलबाड़ी में बह रही है भक्ति की बयार, मुख्यधारा में जुड़ रहे नक्सल
जिन्हें सपना देखना मना था, उन्हें IIT में भेज देते हैं आनंद, नए गरीब बच्चों को जल्द चुनेंगे