सफाई अभियान के माध्यम से हिन्दू-मुस्लिम सौहार्द की मिसाल पेश कर रहा है शाहनवाज

safai-abhiyan

लाइव सिटीज डेस्क (शशांक शेखर) : इन दिनों देश में हर तरफ धार्मिक उन्माद बढ़ रहा है. ‘मैं हिंदू हूँ’ ‘मैं मुसलमान हूँ’ को लेकर झगड़े बढ़ते जा रहे हैं. एक बड़ा वर्ग अपने धर्म का रक्षक बन धर्म का झंडा बुलंद करने की होड़ में शामिल है. मगर कुछ ऐसे लोग भी हैं जो धर्म-समुदाय से ऊपर उठकर इंसानियत की जीवंत मिशाल पेश कर रहे हैं. इन्हीं में से एक हैं गोपालगंज जिले के बैरिया ढोढन निवासी शाहनवाज खान. शाहनवाज राजधानी पटना के नाला रोड में स्टेनलेस स्टील का व्ययसाय करते हैं. उम्र होगी यही कोई 29-30 साल. शाहनवाज समाज हित में लगातार अच्छे काम करते रहते हैं. मगर आजकल वे एक मिशन में लगे हुए हैं.

शाहनवाज ने अकेले पटना के घाटों की सफाई का जिम्मा उठाया हुआ है. अपने व्यस्ततम जीवन से वक़्त निकालकर हर रविवार पटना के घाटों पर जाकर पूरी सफाई कर घाटों को साफ़ रखने के मुहीम में निरंतर जुटे हैं. उनके इस काम में कठिनाई तो बहुत आती है, मगर इनके हौसले इन्हें अपने अभियान से डिगने नहीं देते. सफाई के बाद अगले रविवार तक फिर से घाटों पर कचरे का ढेर जमा हो जाता है, मगर ये उसी तल्लीनता के साथ पुनः अपने सफाई अभियान में जुट जाते हैं.

घाटों के आसपास रहने वाले बच्चे कभी-कभार इनके काम में मदद कर देते हैं. शाह नवाज पिछले कई महीनों से इस मुहीम में जुटे हुए हैं. उनके लगन को देखकर अब घाटों पर घुमने आए युवा भी इनके मदद को आगे आने लगे हैं. एक व्यक्ति से शुरू हुआ कारवां लगातार बढ़ता जा रहा है. शाहनवाज से प्रभावित होकर अब युवा आगे आकर उनके इस मुहीम में शामिल हो रहे हैं.

गंगा को हिन्दू धर्म में एक अत्यंत पवित्र नदी का दर्जा प्राप्त है. इतनी पवित्र कि इसमें एक डुबकी लगाने भर से हमारे सारे पाप धूल जाते हैं. आज गंगा की सफाई के नाम पर सरकार द्वारा अरबों रूपये खर्च किए जा रहे हैं. बिहार में भी खासकर पटना में घाटों की सफाई कर इसके सौन्दर्यीकरण पर सरकार लम्बे समय से काम कर रही है.

मगर आज एक मुसलमान लड़का इसकी सफाई का जिम्मा अपने कंधों पर उठाकर हिन्दू-मुस्लिम सौहार्द की एक ऐसी मिशाल पेश कर रहा है जिसमें हम सब को शामिल होना चाहिए.

यह भी पढ़ें – मरणासन्न युवती के लिए देवदूत बन सामने आये रजनीकांत

युवक ने पेश की मिसाल, एसिड अटैक विक्टिम से रचाई शादी