14 साल की लड़की ने दिखाई हिम्मत, 60 साल के दूल्हे संग निकाह से इंकार

वीरपुर/बेगूसराय(बिनोद करण): शादी गुड्डे-गुड़ियों का कोई खेल नहीं है. लड़कियां भी महज  हाड़ मांस का कोई पुतला नहीं होतीं. लेकिन कुछ लोग ऐसा ही समझते हैं और उनपर अपनी मर्जी का निर्णय थोपने से जरा भी गुरेज नहीं करते हैं. यह अलग बात है कि शादी-ब्याह के रिश्ते और इसकी अहमियत को अब नाबालिग भी समझने लगे हैं.
अब वो जमाना गया कि बैल की तरह लड़की को किसी खूंटे से बांध दो और वह बेजुबानों की तरह तिल-तिल कर मरती रहेगी और हुकुम बजाती रहेंगी. ताजा मामला वीरपुर थाना क्षेत्र के वीरपुर पश्चिमी पंचायत का है जहां गरीबी के कारण मो. सुभान की पोती मोहम्मद इस्लाम की 14 वर्षीय पुत्री शबाना खातून की शादी रविवार की रात गांव में की जा रही थी.
लड़की ने अधेड़ दूल्हा उत्तरप्रदेश के सहारनपुर निवासी मोहम्मद रियासत अली (60 वर्ष) से निकाह करने से इनकार कर दिया. फिर क्या था जब इसकी जानकारी गांव वालों को हुई तो गांव के लोगों ने वीरपुर थानाध्यक्ष को घटना की जानकारी दी.
थानाध्यक्ष ने तुरंत कार्रवाई करते हुए पुलिस को भेज कर निकाह से पूर्व ही दूल्हा, लड़की के पिता, दलाल और निकाह पढ़ाने वाले काजी मो. अब्दुल कुद्दुस को गिरफ्तार कर थाना ले गई. थानाध्यक्ष एलबी सिंह ने बताया कि कार्रवाई के दौरान लड़की ने अपने चाचा, चाची, मां और गांव वालों की मौजूदगी में बताया कि इसके पिता को दलाल ने 20 हजार रुपये दिए और दस दिनों से अधेड़ दूल्हा को इसके घर में लाकर रख दिया और उसकी शादी की बात तय कर दी.
शादी के बाद और रुपये देने की बात उनके पिता को कही. इसी लालच में आकर रात में उसका निकाह कराने की तैयारी की जाने लगी तो मैंने निकाह से इनकार कर दिया. थानाध्यक्ष ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है. जांच पूरी होने के बाद मामला सच पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी. इधर जानकारों का कहना है कि मामले को रफा-दफा कराने को लेकर प्रयास में कुछ लोग लगे हुए हैं. घटना की चर्चा पूरे इलाके में जोर-शोर से चल रही है.

यह भी पढ़े- शिद्दत की गर्मी में ऐसे करें अपना बचाव

स्वास्थ्य सुविधाएं देने में भारत फिसड्डी, स्विट्जरलैंड शीर्ष पर