मिसाल : जेल में बंद 82 वर्षीय चौटाला ने पास की बारहवीं की परीक्षा

chautala

लाइव सिटीज डेस्क : कहते हैं शिक्षा हासिल करने की न तो कोई उम्र होती है और नहीं कोई स्थान विशेष. बस दिल में लगन हो तो किसी भी हालात में पढ़ाई की जा सकती है. और यह बात साबित कर दिखाई है हरियाणा के 82 वर्षीय पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला ने.  हरियाणा के 82 वर्षीय पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला ने दिल्ली की तिहाड़ जेल में दस साल की सजा काटते हुए बारहवीं कक्षा की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण कर ली.

 

उनके छोटे बेटे और वरिष्ठ इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने कहा कि शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में दोषी चौटाला अब बीए की पढ़ाई करने की योजना बना रहे हैं. अभय ने कहा, ‘‘वह तिहाड़ जेल में कैदियों के लिए बनाए गए केन्द्र पर राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय संस्थान द्वारा कराई गई बारहवीं की परीक्षा में शामिल हुए. अंतिम परीक्षा 23 अप्रैल को हुई थी. वह इस दौरान पैरोल पर रिहा थे लेकिन चूंकि परीक्षा केन्द्र जेल परिसर के अंदर था, वह वापस जेल आए और परीक्षा में शामिल हुए.’’

वह अपने पोते और हिसार से सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला की शादी में शामिल होने के लिए पिछले महीने पैरोल पर रिहा हुए थे. उनकी पैरोल पांच मई को समाप्त हुई थी. अभय ने कहा कि वह पिछले साढ़े चार साल से जेल में बंद हैं. मेरे पिता ने अपने समय का सदुपयोग करने की सोची और अपनी शिक्षा आगे बढ़ाई. अभय ने कहा कि उन्होंने प्रथम श्रेणी में परीक्षा उत्तीर्ण की.
chautala
उनके अनुसार, इनेलो प्रमुख को पारिवारिक परिस्थितियों के कारण अपनी पढ़ाई बीच में छोड़नी पड़ी थी. उन्होंने यहां कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री के प्रेरणास्रोत वर्ष 1999 में माडल जेसिका लाल हत्याकांड में आजीवन कारावास की सजा काट रहे मनु शर्मा हैं जो जेल में रहते हुए एलएलबी की पढ़ाई कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘तिहाड़ जेल में मनु का सेल चौटाला साहब के सेल के पास है और उन्होंने उन्हें जेल से पढ़ाई करते हुए देखा.’’
यह भी पढ़ें – कश्मीरी युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत है 16 वर्षीय जियान शफीक़