1 जून ‘वर्ल्ड मिल्क डे’ : दूध एक संपूर्ण पोषक तत्व

milkmilkday

लाइव सिटीज डेस्क : आज विश्व दूध दिवस है, जिसे संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संस्थान के द्वारा दूध के महत्व को ध्यान में रखकर बनाया गया था. इस दिन डेयरी सेक्टर से जुड़ी गतिविधियों की ओर खास ध्यान देने के लिए मनाया जाता है.

लेकिन, भारत में जब भी दूध और डेयरी सेक्टर की बात हो तो श्वेत क्रांति के जनक वर्गीय कुरियन को याद किए बिना नहीं रहा जा सकता. भारत में दूध उत्पादन, आपूर्ति और डेयरी प्रोडक्ट्स को नए आयाम देने में वर्गीज कुरियन का महत्वपूर्ण योगदान है.

जहां उन्होंने सहकारी डेयरी विकास के एक सफल माडॅल की स्थापना की और भारत को दुनिया का सबसे बड़ा दुग्ध उत्पादक देश बनाया.

दूध को कंप्लीट फूड माना जाता है. बच्चे से लेकर बड़े बुजुर्गों तक के लिए दूध हेल्दी है. लेकिन सवाल ये उठता है कि दूध आखिर किस समय पीना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है. दूध पीने से कैल्शियम और प्रोटीन मिलता है.

हां, अगर आपको लैक्टोस इन्टॉलरेंस नहीं है तो दूध आपके लिए फायदेमंद है. हर साल 1 जून को ‘वर्ल्ड मिल्क डे’ मनाया जाता है. इस मौके पर आज हम आपको बता रहे हैं कि दूध सुबह के समय पीना ज्यादा फायदेमंद है या शाम के. चलिए जानते हैं दूध पीने का सही समय क्या है.

milkmilkday

– सुबह के समय दूध पीएं अगर आप सुबह नाश्ते के समय अधिक प्रोटीन लेना चाहते हैं तो सुबह के समय दूध पीएं. कैल्शियम और प्रोटीन के अलावा दूध में पोटैशियम, मैग्‍नीशियम, फास्फोरस और विटामिंस होते हैं.

-कैल्शियम और प्रोटीन की जरूरत पड़ती है अगर आप सुबह-सवेरे वर्कआउट करते हैं तो शरीर को सुबह के वक्त, . ऐसे में आप दूध सुबह पीएं.

-सुबह के समय दूध पीना ज्या‍दा फायदेमंद है अगर आप दिनभर अपनी भूख को कंट्रोल करना चाहते हैं. लेकिन आपको अगर महसूस होता है कि दूध पीने के बाद पेट में ब्लोटिंग शुरू हो गई है तो आपको सुबह दूध नहीं पीना चाहिए.

-आपकी रात में ठीक से नींद पूरी नहीं हो पाती है तो हल्का गर्म दूध रात में पीना बेहतर है. इससे आपको आराम मिलेगा और नींद भी अच्छी आएगी.

– दिनभर काम करके थक गए हैं और आराम चाहते हैं तो रात में दूध पीएं. दूध में मौजूद एमिनो एसिड ब्रेन से सेरोटोनिन रिलीज करता है. इससे आप आसानी से रिलैक्स हो पाते हैं.

-आप वचन कम करने की सोच रहे हैं तो रात में दूध ना पीएं. बहुत से लोगों को रात में दूध पीने से डायजेस्टिव प्रॉब्लम भी हो जाती है.

-जब भी आप दूध पीएं तो ध्यान रखें कि वो हल्का गर्म हो ना कि बहुत ठंडा. हल्का गुनगुना दूध पीने से डायजेशन बेहतर होता है. ये भी ध्यान रखें कि बहुत ज्यादा दूध पीना हेल्दी नहीं है. दिनभर में 150 से 200 ml दूध पीना काफी है.

यह भी पढ़ें – World No Tobacco Day : धुंए से तबाह होती जिंदगियां