बाइक, फ्रीज, वाशिंग मशीन… दहेज की लिस्ट देख लड़की के पिता को आया हार्ट अटैक

dowry

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार से लेकर पूरे देश तक में दहेज के खिलाफ वर्षों से अभियान चल रहा है. दहेज लेने वालों के खिलाफ डॉरी एक्ट बनाया गया है. लेकिन इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है. पिछले दिनों बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी बिहार में शराबबंदी के बाद दहेजबंदी को लेकर अभियान चलाने की बात कही थी और यह भी कहा था कि यह इसे पूरे देश में चलाया जाना चाहिए, लेकिन यूपी के वाकया ने इस पर फिर से सोचने के लिए विवश कर दिया है. मामला मेरठ के शामली का है.

दरअसल मेरठ के शामली में शादी आज होनेवाली थी. इसके पहले ही लड़के वालों ने दहेज की पूरी लिस्ट भेज दी. लिस्ट में एक से बढ़ कर एक ब्रांडेड सामान के नाम थे. उन नामों को देख कर लड़की के पिता कांप गये, कुछ देर तक बर्दाश्त भी किया, लेकिन तनाव इतना बढ़ गया कि उन्हें हार्ट अटैक आ गया. घर में गाने वाले मंगल गीत थम गये. डॉक्टर बुलाये जाने लगे. गांव वालों से यह देखा नहीं गया तो पंचायत बैठी. दोनों पक्षों के लोगों को बुलाया गया. लेकिन लड़की ने दहेज लोभियों के यहां शादी करने से इनकार कर दिया. तब लड़की के परिजनों ने थाने में दहेज लोभी लड़का वालों पर कार्रवाई करने की मांग की.

जानकारी के अनुसार शामली स्थित नई बस्ती के रहनेवाले एकराम ने अपनी बेटी की सगाई बाबरी थाना क्षेत्र के कैड़ी गांव के रहनेवाले युवक के साथ की थी. मंगलवार को बारात आनेवाली थी कि दो दिन पहले ही लड़के की डिमांड आ गयी. लड़के के पिता ने दहेज की लंबी लिस्ट भेज दी. लिस्ट में स्प्लेंडर बाइक, ब्रांडेड फ्रीज, वाशिंग मशीन, शीशम की लकड़ी से निर्मित फर्नीचर, जेवरात आदि शामिल थे. अलग कैश की भी डिमांड थी. दहेज नहीं मिलने पर शादी तोड़ने की धमकी भी दी गयी थी. इतनी लंबी लिस्ट देख एकराम को हार्ट अटैक आ गया. परिजनों ने उन्हें आनन फानन में स्थानीय स्तर पर इलाज कराया. मामला बिगड़ता देख एकराम को क्रिटिकल स्थिति में दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में एडमिट कराया.

बहरहाल गांव वालों ने परिवार की स्थिति देख मोर्चा संभाला. दोनों पक्षों की पंचायत करायी. बीच का रास्ता निकालने पर भी बात हुई. लेकिन लड़के वाले दहेज पर अड़े रहे. इसी बीच लड़की को भी पंचायत की जानकारी हुई, तो वह वह खुद पंचायत में पहुंच गयी और दहेज लोभियों के घर में शादी करने से इनकार कर दिया. तब पंचायत में यह फैसला आया कि ऐसे दहेज लोभियों को सबक सिखाया जाये.

पुलिस ने बयान लेने के बाद जांच कर कार्रवाई करने की बात कही है.