रिसर्च : रोज 4 घंटे से ज्यादा टीवी देखते हैं, 40% तक घट सकता है स्पर्म काउंट

TV
प्रतीकात्मक फोटो

लाइव सिटीज डेस्क : मर्द सावधान हो जायें. अगर आप दिनभर में पांच घंटे से ज्यादा टीवी देखते हैं तो आपको नपुंसकता का खतरा हो सकता है. इस वजह से मर्दों के स्पर्म काउंट में कमी आ सकती है. एक नई रिसर्च में दावा किया गया है कि पांच घटे से ज्यादा टीवी देखने पर स्पर्म काउंट में 35 प्रतिशत तक की कमी आ सकती है.

इस मामले में रिसर्चर्स का कहना है कि ज्यादा टीवी देखने का मतलब ज्यादा देर तक बैठना और हाई कैलोरी जंक फ़ूड खाना है. उन्होंने बताया है कि बदलती लाइफस्टाइल में जहां कुछ लोग एकसाथ कई-कई घंटों तक बैठे रहते हैं उन्हें भी यह खतरा हो सकता है. यह खतरा ऐसे लोगों के लिए भी है, जो टीवी पर एकसाथ अपने फेवरेट सीरियल के कई एपिसोड्स देखते हैं. ऐसे लोगों में स्पर्म काउंट 37 मिलियन/ml पाया गया है. जबकि सामान्य मर्द, या वे जो कभी-कभी ही टीवी देखते हैं, उनमें यह 52 मिलियन/ml पाया जाता है.



स्टडी का कहना है कि जो लोग दिन में करीब 15 घंटे फिजिकली एक्टिव रहते हैं, उनका स्पर्म काउंट ऐसे लोगों से तीन-चौथाई तक ज्यादा होता है. यह रिसर्च 18 से 22 एज ग्रुप के 200 स्टूडेंट्स से लिए गए स्पर्म सैंपल पर किया गया है.

इस रिसर्च के बारे में दिल्ली की एक IVF एक्सपर्ट ने बताया है कि ज्यादा देर तक एक ही जगह बैठे रहने से और जंक फ़ूड खाने से इनमें मौजूद कई तरह के केमिकल या तो स्पर्म सेल की गतिशीलता को प्रभावित करता है, या उन्हें पूरी तरह नष्ट कर देता है.

अमेरिकन जर्नल ऑफ़ एपिडेमियोलॉजी में प्रकाशित इस रिसर्च के अनुसार मर्दों में स्पर्म काउंट कम होने का खतरा ऐसे लोगों को भी हो सकता है, जो बहुत ज्यादा एक्सरसाइज करते हैं. बताया गया है कि ज्यादा एक्सरसाइज और ज्यादा बैठना, दोनों ही ऐसी वजहें है जो बॉडी में एक ख़ास तरह के फ्री रेडिकल्स को जन्म देती हैं. ये फ्री रेडिकल्स स्पर्म सेल के लिए हानिकारक होते हैं. इनसे स्पर्म सेल के मरने या उनके रिप्रोडक्शन सिस्टम को नुकसान पहुँचने का खतरा 90 प्रतिशत तक बढ़ जाता है.

स्टडी में यह भी बताया गया है कि बैठ कर टीवी देखने की आदत से इंसान के फेफड़ों में ब्लड क्लॉट बनने का खतरा बढ़ जाता है. ऐसा fatal pulmonary embolism की वजह से होता है. इस वजह से मौत तक होने की संभावना बनी रहती है. यह संभावना हर रोज 4 घंटे से ज्यादा टीवी देखने पर प्रति घंटे 45 प्रतिशत तक बढ़ जाती है.