दही वाले के बेटे ने लहराया परचम, JEE Mains किया क्रेक

JEE
शिक्षक संजीव पाठक के साथ रुद्र लाल शर्ट में.

हवेली खड़गपुर/मुंगेर (सुनील जख्मी) : हवेली खड़गपुर के मुख्य बाजार में किसी से भी पूछ लीजिए कि दही वाला कौन है तो लोग तुरंत बता देंगे पाल जी की दुकान का एड्रेस. सालों भर वहां दही बिकती है. समय के साथ वहां लस्सी भी बिकने लगी, वह भी सालों भर. मतलब जाड़ा व बरसात के दिनों में भी आपको वहां दही के साथ लस्सी भी मिल जायेगी. और अब वो दही वाले की एक नयी पहचान बन गयी. अचानक उस दही वाले पर पूरा शहर गर्व करने लगा है. जी हां, उसी दही वाले के बेटे ने JEE Mains की परीक्षा में बाजी मारी.

नगर के कन्या मध्य विद्यालय के समीप लस्सी और दही बेचने वाले असित पाल के पुत्र रुद्र पाल ने यह उपलब्धि हासिल की है. रुद्र को आॅल इंडिया में 173379 रैंक और ओबीसी कैटोगरी में 52515 रैंक लाकर खड़गपुर को गौरवान्वित किया है. रुद्र की इस सफलता पर मां जयंती रानी पाल, चाचा निशु पाल और भाई काफी खुश हैं. वहीं रुद्र बताते हैं कि वह वैज्ञानिक बनना चाहता है. वहीं शिक्षक संजीव पाठक बताते हैं कि रुद्र ने खड़गपुर में रह कर कड़ी मेहनत की, जिससे यह मिथक टूट गया कि लोग केवल कोटा या अन्य बड़े शहर के कोचिंग में पढ़नेवाले छात्र ही इंजीनियरिंग की यह परीक्षा पास कर सकते हैं. घर और गांव में रह कर भी कड़े परिश्रम कर छात्र आईआईटी जैसी प्रतिष्ठित परीक्षा में सफल हो सकते हैं.

JEE
शिक्षक संजीव पाठक के साथ रुद्र लाल शर्ट में.

गौरतलब है कि मुख्य बाजार स्थित एकता पार्क के समीप गुरुजी की लस्सी दही की पुश्तैनी दुकान है. अब गुरुजी नहीं रहे, लेकिन उनकी दुकान खड़गपुर की खास पहचान है. दुकान चलाने वाले गुरुजी के पुत्र असित पाल को अपने बेटे रुद्र की प्रतिभा की परख बचपन में हो गयी थी. ऐसे में उसे पुश्तैनी कामकाज से दूर रखकर केवल पढ़ाई पर ध्यान देने को कहा. रुद्र की प्रांरभिक शिक्षा पुरानी चौक स्थित बनारसी देवी टिवड़ेवाल सरस्वती शिशु मंदिर और बेसिक स्कूल से हुई. वहीं मैट्रिक परीक्षा में भी रूद्र ने अनुमंडल में सर्वोच्च स्थान लाकर राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के साथ ही खड़गपुर का नाम रोशन किया था. वह साइंस से प्लस टू भी इसी विद्यालय से कर रहा है. अभी उसका रिजल्ट नहीं निकला है.

इसे भी पढ़ें : Historical Achievements : कल्पित ने कहा- आप भी बन सकते हैं टॉपर, बस ये करें…