इन लोगों को नहीं करना चाहिए जामुन का सेवन, फायदे की जगह हो जाता है भारी नुकसान

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क: जामुन को गर्मियों का फल कहा जाता है. औषधीय गुणों से भरपूर जामुन इम्यूनिटी मजबूत करने के साथ कई बीमारियों से बचाव करता है. इसके अनगिनत फायदे हैं. शरीर में खून की कमी को पूरा करने के साथ-साथ ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए इसे सबसे अच्छी औषधि माना जाता है. जामुन का फल ही नहीं बल्कि इसकी गुठलियां और पत्ते भी कई बीमारियों से बचाव कर सकते हैं. जहां एक ओर यह सेहत के लिए अच्छे होते हैं वहीं कई बार ये हानिकारक भी साबित हो सकते हैं.


कई बार लोग इसके बेहतरीन फायदे जानकर अधिक मात्रा में सेवन करने लगते हैं. लेकिन ऐसा करना आपके लिए खतरनाक हो सकता है. कई बार किसी अच्छी चीज का भी ज्यादा सेवन करना बीमारियों का कारण बन जाती है. आइये जानते हैं ऐसी अवस्थाओं के बारे में जब जामुन का सेवन करना खतरनाक हो सकता है.

ब्लड शुगर: आमतौर पर आयुर्वेद के अनुसार जामुन का सेवन हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद है. जामुन का फल या गुठली का पाउडर डाइट में शामिल करके इसे आसानी से कंट्रोल कर सकते हैं. लेकिन कई लोग इसे कंट्रोल करने के चक्कर में अधिक मात्रा में खाने लगते हैं. जिसके कारण लो ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है.

कब्ज: जामुन में भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है. ऐसे में अगर आपने इसका सेवन अधिक मात्रा में किया जो आपको कब्ज की समस्या हो सकती है.

एक्ने: अगर आपने जामुन का सेवन अधिक मात्रा में किया तो इसके कारण आपको एक्ने की समस्या भी हो सकती है.

उल्टी की समस्या: कई लोगों को जामुन खाने के बाद उल्टी की समस्या हो जाती है. अगर आपको भी समस्या होती है तो इसका सेवन ना करे तो बेहतर है.

खून के थक्के जमना: एथेरोस्क्लेरोसिस और रक्त के थक्के से संबंधित समस्याओं से पीड़ित लोगों के लिए जामुन का सेवन करने से बचना चाहिए.

सर्जरी: जामुन ब्लड शुगर के लेवल को कम कर सकता है. इसलिए सर्जरी के दौरान और बाद में इसका सेवन करने से बचना चाहिए. इससे आपका ब्लड शुगर स्थिर रहे. सर्जरी से कम से कम 2 सप्ताह पहले जामुन का सेवन बंद कर दें.

वात दोष: अगर आपको वात दोष संबंधी समस्या है तो जामुन का सेवन करने से बचना चाहिए.

एसिडिटी: जामुन को खाली पेट नहीं लेना चाहिए और दूध पीने के बाद इसका सेवन नहीं करना चाहिए. खट्टेपन के कारण एसिडिटी हो सकती है.