शीघ्रपतन है संवेदनशील मामला, इलाज में करेंगे लाज तो बन जायेंगे यौन रोगी

erectile-dysfunction
प्रतीकात्मक फोटो

शीघ्रपतन किसे कहते हैं और कोई व्यक्ति किन स्थितियों में शीघ्रपतन का रोगी कहलायेगा, इसका कोई मापदंड नहीं है. युवा व्यक्तियों में होनेवाला यह एक सामान्य रोग है, जिसके कारण व्यक्ति में अनेक मनोदैहिक विकार उत्पन्न हो जाते हैं. व्यक्ति में यह अवस्था उसके विवाह के प्रारंभिक काल में अधिक उत्तेजना के कारण हुआ करती है, जो कुछ समय पश्चात अपने आप ठीक हो जाती है. यदि एक बार लिंग योनि में प्रवेश कर गया तो वीर्यपात कितनी देर में होगा, इसको लेकर आजतक कोई मापदंड नहीं बना. यह समय हर व्यक्ति के लिए अलग अलग है.

वास्तव में सेक्स शारीरिक से अधिक मानसिक तृप्ति का साधन है. इसके लिए कहा गया है कि यह पैरों के बीच नहीं वरन कानों के बीच होता है. यहां कानों का अर्थ दिमाग से है. कहने का तात्पर्य है कि सेक्स का पूरा संबंध दिमाग से है. शीघ्रपतन को बहुत सी परिभाषाओं द्वारा बताया गया है :

cover-08

  • ऐसी स्थिति जिसमें व्यक्ति लिंग को योनि में डालने के पश्चात 30 सेकेंड में ही वीर्य स्खलित कर दे.
  • लिंग को योनि में प्रवेश के पश्चात व्यक्ति पूरे एक मिनट तक अपने वीर्य को रोककर न रख सके.
  • अधिकतर 30 से 60 सेकेंड का समय किसी स्त्री की कामोत्तेजना को शांत करने के लिए प्रयाप्त रहता है. यदि लिंग को योनि में डालने से पूर्व भली प्रकार प्रेम कीड़ा की गई हो और स्त्री ज्यादा कमोत्तेजित हो गयी हो. ऐसे में स्त्री जल्दी ही चर्मोत्सीमा में पहुंच जाती है.

रोग कारण –

  • अत्यधिक शारीरिक थकान, मानसिक स्थिति के प्रभावित होने, जैसे – चिंता, शोक आदि के कारण भी शीघ्र स्खलन हो सकता है.
  • हस्तमैथून भी शीघ्रपतन का एक बहुत बड़ा कारण है. इसमें पुरुष अप्राकृतिक रूप से उत्तेजना पर पहुंचने का प्रयास करता है. पुरुष अपने उत्तेजना को बढ़ाने एवं शीघ्रताशीघ्र चर्मोत्कर्ष पर पहुंचने का प्रयास करता है. जिससे उसे शीघ्र आनंद की अनुभूति हो सके. वह अकेला ही यह क्रिया करता है, जिसके कारण उसकी प्रवृत्ति उतावलेपन की हो जाती है. वह शीघ्र ही स्खलित होकर तनाव से मुक्ति पाने का प्रयास करता है जो आगे चलकर शीघ्रपतन का कारण बनती है.
  • यदि सहवास अधिक समय के बाद किया जाये तो भी यह संभावित है. सहवास के समय घबराहट, चिंता, व्याकुलता हो तो इसका भी प्रभाव पड़ता है.
  • अत्यधिक स्त्री प्रसंग, अनुभव की कमी, मानसिक तनाव, वीर्य का पतलापन, शारीरिक कमजोरी, सेक्स से सम्बंधित ज्यादा मूवी, किताबें पढ़ने या फिल्में देखने से भी यह रोग होता है.

wet-dreams

रोग लक्षण –

  • शीघ्रपतन का रोगी अंदर से भयभीत रहता है. उसमें घबराहट, परेशानी तथा चिड़चिड़ाहट रहती है. जननेन्द्रिय को छूते ही वीर्यपात हो जाता है.
  • लिंग को योनि में डालते ही या उसके अवलोकन मात्र से ही वीर्यपात हो जाता है. बाद में संभोग क्रिया ध्यान मात्र से ही वीर्य निकल जाता है.
  • रोगी संभोग के प्रति जितना उतावला होता है अथवा घबराहट दिखाता है, उतनी ही जल्दी वीर्य का पतन होता है.
  • शीघ्रपतन एक यौन विकार है जो द्वितीयक नपुंसकता का प्रमुख कारण है.

यह भी पढ़ें :

स्वपनदोष बीमारी नहीं प्राकृतिक तरीका है शरीर का, लेकिन इतने से ज्यादा हो तो मिलें डॉक्टर से

यौन रोगों से हर कोई रहता है परेशान, यहां जानिये सभी अनकहे सवालों के जवाब

नपुंसकता-नामर्दी से परेशान लोग न लगायें इधर-उधर का चक्कर, यहां मिलेगा पूरा समाधान

उपचार –

सामान्य – शीघ्रपतन की चिकित्सा में रोगी की पत्नी का सहयोग नितांत आवश्यक है. इससे इलाज के असफल होने की संभावना न के बराबर होती है. संभोग करने के तरीके से भी वीर्य स्खलन पर बहुत प्रभाव पड़ता है. अतएव संभोग करने की पोजीशन आरामदायक होनी चाहिए. दंपत्ति का सहवास से पहले भली प्रकार इसके लिए तैयार होना आवश्यक है. सहवास के पहले रतिक्रिया का होना अति आवश्यक है. इस प्रकार दोनों सहवास का पूर्ण आनंद उठाते हैं और उनमें एक दूसरे के लिए विश्वास एवं प्रेम जाग्रत होता है.

औषधि चिकित्सा – औषधीय चिकित्सा स्वयं न करें या किसी मेडिकल स्टोर से उसके बताये अनुसार किसी भी प्रकार का औषधि का प्रयोग न करें. किसी योग्य आयुर्वेदिक डॉक्टर से मिलकर चिकित्सा परामर्श लें तब दवा का प्रयोग करें. लज्जा-संकोच को त्यागें. शीघ्र चिकित्सीय परामर्श लें. आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में कई बेहतरीन नुस्खे हैं, जिसके सेवन से रोगी का सफल इलाज संभव है.

इससे जुड़ी किसी भी तरह की समस्या के समाधान के लिए पटना के जाने-माने सेक्स रोग विशेषज्ञ डॉ. मधुरेन्दु पाण्डेय (बी.ए. एम.एस) से संपर्क किया जा सकता है. उनका कांटेक्ट नंबर है : 9431072749/9835081818. उनके क्लिनिक का पता है : मनोरमा मार्केट, बंगाली अखाड़ा, डी एन दास लेन, लंगर टोली, पटना-4, बिहार. आप इनकी ऑफिसियल वेबसाइट www.sexologistinpatna.com पर भी जाकर अपनी अप्वाइंटमेंट फिक्स करा सकते हैं.

Powered.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*