क्या आप जानते हैं फ्रिज के दरवाजे पर चुम्बक क्यों लगी होती हैं? वजह बहुत दिलचस्प है

लाइव सिटीज डेस्क : आज के ज़माने में आपको हर घर में फ्रिज देखने को मिल जाएंगे और समय के साथ इसके रंग रूप में बदलाव भी आपने देखा होगा. बचपन में आपने एक बात जरुर गौर की होगी कि फ्रिज के दरवाजे पर चुम्बक क्यों होती है. और आपने जानने की कोशिश भी की होगी कि आखिर फ्रिज की लाइट कब बंद होती है लेकिन दरवाजा एक वक्त के बाद खुद बंद हो जाता था.



फ्रिज के दरवाजों में चुंबक क्यों लगा होता है, इसका जवाब जाने के लिए हमे इसके इतिहास में जाने की जरूरत पड़ेगी. पहले के फ्रिजों में ऐसे दरवाजे नही हुआ करते थे. उस दौर में फ्रिज की वहज से कई मासूमों की भी जान गई थी. आप सोच रहे होंगे की बच्चो की जान जाने का फ्रिज से क्या मतलब है. जब बच्चे लुका-छिपी के खेल खेलते तो बच्चे छिपने के लिए बच्चे फ्रिज में छिप जाते थे और अंदर ठंडी हवा का प्रेशर होता था, जिस कारण अंदर की तरफ से ताकत लगाने पर भी दरवाजा नही खुल पाता था. दरवाजों पर लगी रबर अंदर की आवाज बाहर नही आने देती थी. इसी कारण कई बच्चों की जान चली गई. इस कारण फ्रिजों के लिए लोगों के अंदर डर बैठेने लगा और इसकी बिक्री में काफी बड़ी गिरावट आई. यहां तक बात उठी कि इस प्रोडक्ट को बंद कर दिया जाए.

साल 1951 में California के कोर्ट ने एक आदेश पास किया, जिसमे इस बढ़ती मुसीबत का उपाय खोजने को कहा गया. साल 1956 में इस समस्या का हल भी निकल गया. रिसर्च में बच्चों के साथ एक्सपेरिमेंट किये गए कि कितनी उम्र के बच्चे, कितना फ़ोर्स लगाकर दरवाजा खोल सकते हैं. वैज्ञानिकों को समझ में आया कि दरवाज़ों को अगर चुंबकीय बना दिया जाएगा. तो इसका हल निकाला जा सकता है.

इन दरवाज़ों को बनाने के बाद एक बार फिर बच्चों के साथ एक्पेरिमेंट्स हुए, जो पूरी तरह से सफल रहे. बच्चे आसानी से फ़्रिज के दरवाज़े अंदर से खोल रहे थे और यहीं से शुरूआत हुई फ़्रिज के दरवाज़ों में चुंबक लगाने की.