हजारों बेटियों का इकलौता पिता, जिनके पिता नहीं उन बेटियों की कराते हैं शादियां

लाइव सिटीज डेस्क : गुजरात के सूरत शहर में एक अनोखी शादी होने वाली है और वो भी किसी एक जोड़े के लिए नहीं बल्कि 251 जोड़ों की वो भी एकसाथ. ये शादी समारोह वाकई में बहुत ही कास होगा और इसकी चर्चा भी बहुत जोड़ों पर है. खास बात ये है कि इसमें ऐसी लड़कियां दुल्हन बनने जा रही हैं, जिनके पिता नहीं हैं. ऐसे में उनके पिता की भूमिका निभा रहे हैं शहर के ही इंडस्ट्रियलिस्ट जो अब तक 954 लड़कियों की शादी करा चुके हैं. वे शादी के साथ ही उनके हनीमून और उसके बाद की सारी जिम्मेदारियों निभाते हैं.



इस शादी में हर लड़की का अपना खास रोल नंबर दिए गए हैं. हर लड़की की शादी उसके धर्म के मुताबिक ही हो रही है. इंडस्ट्रीयलिस्ट पीपी सवाणी ग्रुप द्वारा इन 251 जोड़ों की सामूहिक शादी कराई जाएगी. समारोह अब्रामा रोड स्थित पीपी सवाणी चैतन्य विद्या संकुल ग्राउंड में होगा. सभी दुल्हनों को ज्वैलरी कपड़े और घरेलू सामान गिफ्ट में दिए जाएंगे. ऐसे में हर लड़की की शादी का खर्च करीब चार लाख का होगा.

251 जोड़ों के नाम लकी ड्रा होगा, जिसमें 10 जोड़ों को सिंगापुर-मलेशिया के टूर पर भी भेजा जाएगा. इसके अलावा 100 कपल को कुल्लू-मनाली भेजा जाएगा. 30 कपल को हेलिकॉप्टर से सूरत दर्शन कराया जाएगा. इस काम में सवाणी परिवार के साथ इस बार मेवलिया परिवार भी जुड़ा है.

सामूहिक शादी समारोह के आर्गनाइजर महेश सवाणी के मुताबिक, इस शादी समारोह के साथ ही उनके परिवार में कन्यादान करने वालों की संख्या 708 हो जाएगी. इन सबकी शादी इनके धर्म के मुताबिक ही कराई जाएगी. पिछले पांच सालों में महेश सवाणी कुल 472 लड़कियों की शादी करवा चुके हैं.

हर लड़की का अपना खास रोल नंबर

अब तक की लड़कियों की संख्या 954 हुई है. उनकी बहनों के साथ कुल लड़कियों की संख्या 2124 हैं. अब ऐसे में सबके नाम याद रखना मुश्किल हो जाता है. इसलिए सभी लड़कियों को रोल नंबर दिए गए हैं. महेश सभी को रोल नंबर से पहचान लेते हैं. महेश सवाणी ने बताया कि यह समारोह रिकॉर्ड बनाएगा. उन्होंने कहा कि 251 जोड़ों के साथ इतने ही प्रकार की मिठाइयां भी बनाई जाएंगी.

शादी के बाद भी पिता की सभी जिम्मेदारियां निभाते हैं महेश

महेश सवाणी ने बताया कि 2008 में उन्होंने दो लड़कियों की शादी कराई थी, तबसे यह सिलसिला शुरू हुआ. 2010 में उन्होंने 23 जोड़ों की सामूहिक शादी कराई. बाद में 51 जोड़े, 111 जोड़े और 151 जोड़ों की शादी कराई.

2016 में 236 लड़कियों का सामूहिक शादी करवाया. 251 जोड़ियों की सामूहिक शादी कर एक पिता की सभी जिम्मेदारियां को निभा रहा हूं. महेश लड़कियों की शादी के बाद भी उनके ससुराल के सभी रीति-रिवाज निभाते हैं. त्योहारों पर हर बेटी के यहां तोहफे भेजते हैं. वह समय-समय पर समधियों के घर भी जाते हैं. इसी समारोह में सवाणी परिवार के जय हिम्मत सवाणी और मितुल महेश भाई सवाणी भी शादी बंधन में बंधेंगे.