इन महिलाओं के द्वारा बनाया गया तिरंगा पूरी दुनिया में जाता है, पिछले साल बनाए थे 60,000 तिरंगे

लाइव सिटिज डेस्क : तिरंगे झंडे का सम्मान देश के हर कोने में पूरी तरह से किया जाता है. क्या कभी आपने सोचा है कि झंडा देश के किस राज्य में किस कंपनी द्वारा बनाया जाता होगा? तिरंगा कर्नाटका की तुलसीगरी देश की एकमात्र तिरंगा बनाने वाली कंपनी है. इस कंपनी में ज्यादातर वहां की स्थानीय औरतें काम करती हैं. उनके द्वारा बनाए गए तिरंगों का पूरी दुनिया में सम्मान होता है.

इस कंपनी में 400 के लगभग कर्मचारी काम करते हैं, जिनमें औरतों की संख्या पुरुषों से कहीं ज्यादा है. कंपनी की सुपरवाइजर अन्नपूर्णा कोटी है. कंपनी में औरतों की संख्या ज्यादा होने के पीछे वह यह वजह बताती है कि औरतों के मुकाबले पुरुषों में धैर्य की कमी होती है. वे माप लेने में जल्दी करते हैं, जिससे गलती हो जाती है.

इस तरह की गलती हो जाने पर सिलाई उधेड़ कर झंडा बनाने की प्रक्रिया दोबारा पूरी करनी पड़ती है. वहीं, पुरुष बहुत जल्दी काम छोड़कर चले जाते हैं. इस कारण यहां औरतें कपास की कताई से लेकर सिलाई तक का काम खुद ही करती हैं. देश के लगभग हर कोने भारतीय दूतावासों, आधिकारिक कार्यक्रमों और सरकारी भवनों में उनके द्वारा बनाए तिरंगे झंडे फहराए जाते हैं.

पिछले साल उन्होंने लगभग 60,000 तिरंगे झंड़े बनाए थे. तिरंगा बनाने के लिए इसके रंगों से लेकर माप,सिलाई तक सबकुछ ध्वज संहिता और भारतीय मानक ब्यूरो से दिशानिर्देश के अनुसार किया जाता है. इस बातों में जरा सी गलती की भी कोई गुंजाइश नहीं होती. इन महिलाओं को अपने काम को लेकर कहना है कि हर अलग-अलग जगहों पर नहीं जा पाते लेकिन जब तिरंगा पूरी दुनिया में जाता है तो हम गर्व महसूस करते हैं.

About Ritesh Sharma 3188 Articles
मिलो कभी शाम की चाय पे...फिर कोई किस्से बुनेंगे... तुम खामोशी से कहना, हम चुपके से सुनेंगे...☕️

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*