सावधान! क्या आप भी टॉयलेट में ले जाते हैं अपना स्मार्टफोन? टॉयलेट से भी ज्यादा गंदा है आपका फोन

लाइव सिटीज डेस्क : आजकल मोबाइल फोन का क्रेज ज्यादा ही बढ़ गया है. इंसान जहां जाता है वहां अपने साथ स्मार्टफोन लेकर ही जाता है. अब तो खाते वक्त भी लोग हाथों में फोन रखने लगे हैं और तो और बाथरूम जाने और आने के बाद भी लोग मोबाइस फोन से चिपके रहते हैं. लोग हाथ धुले बगैर कॉल करने से लेकर इंटरनेट सर्फिंग में मोबाइल यूज करते हैं.

कुछ लोग अपने फोन से कुछ ज्यादा ही लगाव रखते हैं और उसे टॉयलेट में भी ले जाते हैं, क्योंकि बोरियत तो टॉयलेट में भी हो सकती है. अगर आप भी इनमें से किसी भी कैटिगिरी में फिट होते हैं, तो फोन से जुड़ी ये खबर आपके लिए ही है.

डेलॉयट के एक सर्वे के मुताबिक लोग जितना सोचते हैं, उनका मोबाइल फोन उससे कहीं अधिक गंदा होता है. रिपोर्ट के मुताबिक, मोबाइल को गंदा करने में सबसे बड़ा रोल आपके हाथों का होता है. सर्वे के मुताबिक, अमेरिका में एक दिन में लोग कम से कम 47 बार अपना मोबाइल चेक करते हैं, जिससे उनके हाथों से जर्म्स (कीटाणु) मोबाइल में चले जाते हैं.

मोबाइल में 17,000 से ज्यादा बैक्टीरियल जीन्स

रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि हाई स्कूल के स्टूडेंट्स के मोबाइल में 17,000 से ज्यादा बैटीरियल जीन्स पाए गए. एरिजोना यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने पाया है कि मोबाइल फोन में टॉयलेट सीट्स से कहीं ज्यादा जर्म्स होते हैं.

मोबाइल फोन्स में मिले 12 तरह के बैक्टीरिया

यूनिवर्सिटी ऑफ सदर्न कैलिफोर्निया के प्रोफेसर डॉक्टर विलियम डीपाउलो ने भी इस बारे में एक स्टडी की है. उनकी टीम ने टॉयलेट सीट के मुकाबले मोबाइल फोन में बैक्टीरिया का पता लगाने के लिए एक कंपनी के एंप्लॉयीज की मोबाइल स्क्रीन्स से स्वाब कलेक्ट किए. रिसर्च में यह बात सामने आई कि जहां टॉयलेट सीट्स में बैक्टीरिया की 3 स्पीसीज (प्रजातियां) पाई गईं. वहीं, मोबाइल में बैक्टीरिया की एवरेज 10-12 स्पीसीज मिलीं. मोबाइल स्क्रीन्स में ई-कोलाइ और फीकल जैसे घातक बैक्टीरिया पाए गए.

हाथों से मोबाइल तक जाते हैं जर्म्स

रिपोर्ट में कहा गया कि ये भयानक जर्म्स आपके हाथों के जरिए मोबाइल तक पहुंचते हैं. सर्वे के मुताबिक, अमेरिका में एक दिन में लोग कम से कम 47 बार अपना मोबाइल चेक करते हैं, जिससे उनके हाथों से जर्म्स (कीटाणु) मोबाइल में चले जाते हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*