महज 750 रुपए में हो गई थी नाना पाटेकर की शादी, एक बेटे की हो चुकी है मौत

लाइव सिटीज डेस्क : जीवन में समयांतर स्मृतियों के बीच आवाजाही है, जबकि मध्यांतर नई स्मृतियों की खोज. हम स्मृतियों के बीच आवाजाही करते हैं और वर्तमान हरा-भरा करते हैं. मुंबई मेरी स्मृतियों कोलाज है, तो अभिनेता नाना पाटेकर उसका महास्वप्न. वे ना केवल एक बेहतरीन अदाकार और अभिनेता हैं, बल्कि उनकी ठेठ मराठी जीवनशैली, खाटीं महाराष्ट्रीयन जबान, जीवन के प्रति सादगी, सरलता और सहजता मुझे शुरू से ही बहुत अच्छी लगती रही है.

नाना पाटेकर 67 साल के हो गए हैं. 1 जनवरी 1951 को मुराद-जंजिरा (महाराष्ट्र) में जन्मे नाना की लाइफ के बारे में कई ऐसी बाते हैं, जो ज्यादातर लोग नहीं जानते होंगे. मसलन, कम ही लोगों को पता होगा कि उन्होंने थिएटर आर्टिस्ट नीलू उर्फ़ नीलकांति से शादी के दौरान महज 750 रुपए खर्च किए थे. अपनी शादी का यह किस्सा खुद नाना पाटेकर ने एक इंटरव्यू में सुनाया था.

थिएटर में हुई थी नीलू से मुलाकात…

बकौल नाना, “मैंने सोचा था कि शादी तो करनी नहीं. इसलिए थिएटर ज्वाइन कर लेते हैं. जब मैं कुछ पैसे कमा लूंगा और कोई लड़की मुझसे शादी करने को तैयार हो जाएगी, तब देखूंगा. मैंने नीलू से शादी की, जिससे पहली मुलाकात मेरी थिएटर में हुई थी. वह बहुत अच्छी एक्ट्रेस रही है और लिखती भी अच्छा है. नीलू एक बैंक में ऑफिसर थी और 2500 रुपए महीना कमाती थी. उस वक्त मुझे प्रति शो 50 रुपए मिल जाते थे. अगर मैं महीने में 15 शो कर लेता था तो मेरी कमाई 750 रुपए हो
जाती थी. यानी कि मेरी और नीलू की कमाई मिलाकर 3250 रुपए महीना होती थी, जो पर्याप्त से ज्यादा थी.”

750 रुपए में हुई थी शादी

नाना कहते हैं, “70 के दशक के मध्य में 200 रुपए में राशन आ जाया करता था. इसलिए हमारी बचत काफी हो जाती थी. हमने शादी पर 750 रुपए खर्च किए थे. हमारे पास कुछ 24 रुपए बचे थे, जिससे हमने गोल्डस्पॉट्स (सॉफ्ट ड्रिंक) खरीदा और मेहमानों को एक छोटी सी पार्टी दी. शादी के बाद हम एक रात के लिए पुणे गए थे. अरविंद देशपांडे (दोस्त) ने हमारे लिए होटल में रूम बुक कराया था.”

पत्नी ने सिनेमा में नहीं बनाया करियर

नाना पाटेकर की मानें तो उनकी पत्नी नीलू सिनेमा से दूर रहीं. वे कहते हैं, “उसकी इकलौती फिल्म ‘आत्म विश्वास’ थी, जिसे सचिन पिलगांवकर ने डायरेक्ट किया था. इस फिल्म के लिए उसे बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड भी मिला था.”

नाना के मुताबिक, बढ़ती उम्र के साथ नीलू का वजन कुछ बढ़ गया और वे सिनेमा से दूर हो गईं. नाना यह भी कहते हैं कि उन्होंने नीलू को वजन कम करने की सलाह दी थी और कहा था कि उन्होंने अपनी बॉडी को हथियार की तरह इस्तेमाल करना चाहिए.

पत्नी से अलग रहते हैं नाना

नाना पाटेकर पत्नी नीलू से अलग रहते हैं. हालांकि, उनका तलाक नहीं हुआ है. एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, “हम रोज मिलते हैं और एक-दूसरे का ख्याल रखते हैं.” ऐसी ख़बरें थी कि जब नाना का अफेयर मनीषा कोइराला से चल रहा था. जब इस बात का पता नीलू को चला तो वे उन्हें छोड़कर चली गई थीं. हालांकि, नाना ऐसी किसी भी बात से इनकार करते हैं.

एक बेटे की हो चुकी है मौत

नाना पाटेकर का एक बेटा है, जिसका नाम मल्हार है. हालांकि, मल्हार से पहले उनके बड़े बेटे का जन्म हुआ था, जिसकी मौत कुछ समय बाद हो गई थी. एक इंटरव्यू में नाना ने बताया था, “27 साल की उम्र में मेरी शादी हुई. जब 28 का हुआ तो पिता को खो दिया और इसके करीब ढाई साल बाद मेरे पहले बेटे की की मौत हो गई. जन्म से ही उसका होंठ कटा हुआ था और कई अन्य दिक्कतें भी उसके साथ थीं.”

जब 9 साल के थे. तब उन्होंने पहला जॉब किया था. इसके लिए उन्हें 35 रुपए महीने और एक वक्त का खाना दिया जाता था.

अपने पहले जॉब के लिए नाना को 8 किमी. (माटुंगा से सेंट्रल मुंबई स्थित चूनाभट्टी) कता सफर पैदल तय करना होता था.

नाना पाटेकर 7 भाई-बहन थे. इनमें से 5 की डेथ हो गई. अब वे और उनके बड़े बाई दिलीप ही जीवित हैं.

मुंबई में उनका जो मकान है, वह उन्होंने 1.10 लाख रुपए में खरीदा था और आज इसकी कीमत 3 से 3.5 करोड़ रुपए है.

एक वक्त था जब नाना ने अपने खास दोस्त डायरेक्टर एन चंद्रा की मदद के लिए अपना घर गिरवी रख दिया था. बाद में न केवल उन्हें अपनी राशि वापस मिली, बल्कि गिफ्ट में एक स्कूटर भी दिया गया.

नाना की मानें तो लगभग हर फिल्म के दौरान उनका कम से कम एक बार झगड़ा होता है. उनके कॉन्ट्रैक्ट में भी शामिल रहता है कि वे एक बार लड़ाई कर सकते हैं.

नाना पिल्म देखने कबी थिएटर नहीं जाते. यहां तक कि उन्होंने अपनी भी कोई फिल्म सिनेमा हॉल में नहीं देखी. जब वक्त मिलता है, तब कोई पुरानी फिल्म टीवी पर देख लेते हैं.

उन्हें मुंबई में रहना पसंद नहीं है. वे अपने गांव, पुणे या गोवा को रहने के लिए बेहतर मानते हैं.

अपने शो ‘पुरुष’ में काम करना सिर्फ इसलिए बंद कर दिया था, क्योंकि ऑडियंस उनके द्वारा किए जा रहे रेप सीन पर भी तालियां बजा रहे थे. उन्हें इस सामाजिक बुराई पर तालियों की गड़गड़ाहट पसंद नहीं आई.

फिल्मों में लाने का श्रेय स्मिता पाटिल को जाता है. उन्होंने ही थिएटर के दौरान नाना से कहा था कि उन्हें पिल्मों में आ जाना चाहिए. दोनों ने पहली बार फिल्म ‘गमन’ में साथ काम किया था.

‘परिंदा’ के एक सीन की शूटिंग के दौरान नाना बुरी तरह जल गए थे. इसके बाद एक साल तक उस सीन की शूटिंग रुकी रही.

उनकी पहली फाइट फिल्म ‘परिंदा’ की शूटिंग के दौरान विधु विनोद चोपड़ा से हुई थी. कारण सिर्फ इतना था कि नाना नहीं चाहते थे कि आग वाले सीन के लिए उनकी बॉडी पर रबर सॉल्यूशन लगाया जाए, लेकिन निनोद नहीं मानें.

फिल्म प्रहार के मेकिंग के दौरान नाना पाटेकर को करीब 3 महीने तक इंडियन आर्मी के बीच रखा गया था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*