अक्षय नहीं ये हैं रियल पैडमैन, गांव-गांव जाकर महिलाओं को पैड के इस्तेमाल के प्रति जागरूक किया

लाइव सिटीज डेस्क : अक्षय कुमार की फिल्म पैडमैन अब 9 फरवरी को रिलीज होगी. संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म ‘पद्मावत’ से बॉक्स ऑफिस पर टक्कर से बचने के लिए अपनी मोस्ट अवेटेड फिल्म ‘पैडमैन’ की रिलीज को टाल दिया है. आर बाल्की के निर्देशन में बनी फिल्म ‘पैडमैन’ को 25 जनवरी को रिलीज किया जाना था लेकिन अब यह 9 फरवरी को थियेटरों में नजर आएगी. लेकिन आपको बता दें, असली पैडमैन अक्षय कुमार नहीं, बल्कि तमिलनाडु के रहने वाले अरुणाचलम मुरुगनाथम हैं.

‘पैडमैन’ में अक्षय, अरुणाचलम मुरुगनाथम का कैरेक्टर प्ले करने जा रहे हैं, जो कि वास्तविक जीवन में पीरियड से जुड़ी समस्याओं पर काम कर रहे हैं. उन्हें पैडमैन के नाम से भी जाना जाता है. उन्होंने कम लागत वाले सेनेटरी पैड बनाने की मशीन का आविष्कार किया था. आइए जानते हैं उनके बारे में…

गरीबी से निकलकर किया आविष्कार

अरुणाचलम का बचपन गरीबी में निकला. कोयंबटूर में वो सबसे गरीब परिवार से आते हैं. उनका जन्म 1962 में हुआ, जब वो छोटे थे तो उनके पिता का देहांत हो गया. जिसके बाद उनकी मां ने मजदूरी कर उन्हें पाला. जब वो 14 साल के थे तो उन्होंने स्कूल छोड़ दिया. जिसके बाद उन्होंने इधर-उधर नौकरियां कीं.

1998 में उनकी शादी शांति से हो गई. शांति को जब पीरियड्स होते थे तो वो कपड़े का इस्तेमाल करती थीं. उनको सैनेटरी नेपकिन के बारे में पता नहीं था. जैसे ही अरुणाचलम को पता चला तो वो हैरान रह गए. जिसके बाद उन्होंने मशीन बनाने की ठानी.

बनाई सस्ते में पैड बनाने वाली मशीन

उन्होंने कम लागत वाले सेनेटरी पैड बनाने की मशीन का आविष्कार किया. जिसके लिए उनको पद्मश्री अवॉर्ड से भी नवाजा गया. बता दें, उनको मशीन बनाने में करीब 2 साल लगे. मुरुगनाथम ने गांव-गांव जाकर महिलाओं को पैड के इस्तेमाल के प्रति जागरूक किया. कोयंबटूर में अरुणाचलम अपनी कंपनी चलाते हैं. 4,500 गांव में उनके सेनेटरी पैड का इस्तेमाल होता है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*