इन्हें विकलांग न समझें, ये अच्छे-अच्छों की ‘अंग्रेजी’ उतार देती हैं…

लाइव सिटीज डेस्क : भारत में लड़कियों को लेकर लोग बहुत संजीदा रहते हैं. खासकर उनकी शिक्षा को लेकर, जिसके लिए सरकार द्वारा भी कई योजनाएं चलाई जाती हैं. इन सबके बावजूद भारत की शिक्षा के आकड़ों को देखें, तो लड़कियां शिक्षा में अब भी पीछे हैं. वजह समाज में अब भी कुछ ऐसे लोग हैं, जो लड़कियों को एक अच्छी शिक्षा देना जरूरी नहीं समझते.

लेकिन भारतीय समाज में कई बदलाव भी आ रहे हैं. बदलते समय के साथ लोगों की लड़कियों की शिक्षा के प्रति नजरियां भी बदला है. इसका सबसे बेहतरीन उदहारण है ये स्कूल, जहां लड़कियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ उनकी शादी तक का भी ख्याल रखा जाता है. हम जिस स्कूल की बात कर रहे हैं, वो गुजरात के अहमदाबाद में स्थित है. इस स्कूल का नाम अंध कन्या प्रकाश गृह है. इसे वर्ष 1954 में इस मकसद के साथ खोला गया था कि विकलांग लड़कियों को शिक्षा देने के साथ उन्हें आत्मनिर्भर भी बनाना है.



जब इस स्कूल की शुरुआत की गई थी, तब यहां पढ़ने वाली छात्राओं की संख्य़ा बहुत ही कम थी. लेकिन समय के साथ लड़कियों की संख्या बढ़ती गई. इस स्कूल में पढ़ने वाली लड़कियां पढ़ाई के साथ-साथ चिक्की, दिवाली के दीये और दूसरे हाथ से बने प्रोडक्ट भी बनाती हैं. इससे मार्केट से उन्हें पैसे भी मिलते हैं. यहां पढ़ाई करने वाली लड़कियों का टैलेंट देखकर आप भी हैरान रह जाएंगे.

ये लड़कियां अंग्रेजी फर्राटेदार बोलती हैं. इसके साथ ही वे खुद को आम लड़कियों की तरह ही हर कॉम्पिटिशन के लिए खुद को तैयार करती हैं. यहां पढ़नेवाली लड़कियों के अंदर कई स्किल्स है, जिनका इस्तेमाल कर वो सफलता की सीढ़ी चढ़ते जा रही हैं. इसके अलावा इन लड़कियों की शिक्षा पूरा होने के बाद अंध कन्या प्रकाश गृह ही इनके योग्य कोई लड़का ढूढ़कर इनकी शादी भी कराता है.