द्वितीय विश्व युद्ध का हीरो प्लेन, 71 साल बाद फिर से है उड़ने को तैयार

लाइव सिटीज डेस्क : द्वितीय विश्व युद्ध 1939 से 1945 तक चलने वाला विश्व-स्तरीय युद्ध था. लगभग 70 देशों की थल-जल-वायु सेनाएं इस युद्ध में सम्मलित थीं. इस युद्ध में विश्व दो भागों मे बंटा हुआ था- मित्र राष्ट्र और धुरी राष्ट्र. इस युद्ध के दौरान पूर्ण युद्ध का मनोभाव प्रचलन में आया क्योंकि इस युद्ध में लिप्त सारी महाशक्तियों ने अपनी आर्थिक, औद्योगिक और वैज्ञानिक क्षमता इस युद्ध में झोंक दी थी. इस युद्ध में विभिन्न राष्ट्रों के लगभग 10 करोड़ सैनिकों ने हिस्सा लिया और यह मानव इतिहास का सबसे ज़्यादा घातक युद्ध साबित हुआ.

द्वितीय विश्व युद्ध में अहम भूमिका निभा चुका अमेरिकी विमान 71 साल बाद फिर उड़ने को तैयार है. इसे दुनिया की सबसे खतरनाक जंग माना जाता है. दैट्स ऑल ब्रदर्स के नाम से मशहूर डगलस सी-47 ने जून 1944 में जर्मनी की नाजी सेना के कब्जे से फ्रांस के पूर्वोत्तर भाग को मुक्त कराने के लिए अमेरिका के 8 हजार सैनिकों को नॉर्मेंडी में उतारा था. इसके बाद कई सालों तक ये कबाड़ में पड़ा था. अब ये मरम्मत के बाद फिर उड़ने को तैयार है.

एक रिसर्चर ने शुरू की मरम्मत

जंग के बाद दैट्स ऑल ब्रदर्स को एक निजी कंपनी को बेच दिया गया था. इसके बाद प्लेन विस्कोंसिन में कबाड़ में पड़ा रहा. अमेरिकी सेना से जुड़े रिसर्चर ने 2015 में इसे फिर उड़ने लायक बनाने के लिए मरम्मत शुरू की थी.

एक महीने में 25 करोड़ रु. जुटाकर की गई मरम्मत

दैट्स ऑल फ्रेंड्स के कायाकल्प के लिए अमेरिकी हिस्टोरिक रिसर्च एजेंसी ने एक महीने में करीब 25 करोड़ रुपए जुटाए. इस पैसे से विमान के रंग रोगन से लेकर इंजन की मरम्मत का काम कराया गया.

75वीं सालगिरह पर फ्रांस भी जाएगा प्लेन

उम्मीद की जा रही है कि यह प्लेन नॉर्मेंडी हमले की 75वीं सालगिरह पर अगले साल अमेरिका से उड़ान भरकर फ्रांस पहुंचेगा. इसकी मुहिम चलाने वालों का कहना है कि यह विमान अमेरिकी एयरफोर्स के अदम्य साहस की धरोहर बन गया है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*