क्या आप जानते हैं ट्रेन पर लिखे इन नंबरों का मतलब? बहुत खास होते हैं ये नंबर

लाइव सिटीज डेस्क : हम में से लगभग सभी लोगों ने ट्रेन में सफर किया ही होगा. सफर के दौरान अक्सर हम ट्रेन पर लिखे नंबरों को देखते और सुनते हैं लेकिन हम में से ज्यादा लोगों को इन नंबरों के बारे में नहीं पता रहता है. भारतीय रेलवे हर रोज करीब 11,000 ट्रेनें चलाती है, जिनमें से 7000 पैसेंजर ट्रेनें होती हैं. रेल द्वारा सफर करने के लिए जब भी हम आरक्षित टिकट लेते हैं अथवा सामान्य टिकट से सफर करते हैं तो प्लेटफॉर्म पर ट्रेन की सूचना उसके नाम से पहले रखे गये ट्रेन नंबर से दी जाती है.

आपको बता दें कि सभी सवारी ट्रेन का नंबर बड़ा खास होता है. महज ट्रेन के नंबर से ट्रेन के बारे में तमाम जानकारियां पता चल जाती हैं. जैसे ट्रेन सुपरफास्ट है या नहीं, कहां से आ रही है, कहां जा रही है आदि. आज हम आपको ट्रेन नंबर से उसको पहचानने का तरीका बता रहे हैं. आखिर क्‍या कहता है ट्रेन के पांच अंक वाले नंबर का पहला अंक आइये जाने इन अंकों का क्‍या है फंडा.

1. जब ट्रेन का नंबर जीरो ‘0’ से शुरू हो

जिस ट्रेन का नंबर जीरो से शुरू होता है. वो रूटीन ट्रेन नहीं बल्कि विशेष ट्रेन होती है. जिन्‍हें विशेष अवसरों जैसे जाड़े और गर्मी की छुट्टियों, या पूजा और त्‍योहारों पर खासतौर पर चलाया गया होता है. ये ट्रेनें अक्‍सर चलती रहती हैं, ये स्‍पेशल ट्रेनें पूरे साल नहीं बल्कि कुछ एक महीनों के लिए ही चलती हैं.

2. जब ट्रेन का नंबर एक ‘1’ हो

एक अंक से शुरु होने वाली नंबर ट्रेन हमेशा ही लंबी दूरी की ट्रेनें होती हैं. एसी, सुपरफास्‍ट ट्रेनों का नंबर भी 1 अंक से शुरु होता है.

3. जब पहला अंक हो दो ‘2’

जब किसी ट्रेन का नंबर 2 से शुरू होता है तो यह ट्रेन बहुत लंबी दूरी के लिए चलने वाली एक्‍सप्रेस ट्रेन ही होगी.

4. जब पहला अंक हो तीन ‘3’

नंबर 3 से शुरू होने वाली ट्रेनें आपको कोलकाता छोड़ कर देश भर में कहीं नहीं मिलेंगी क्‍योंकि ये अंक सबअर्बन ट्रेन सिस्टम को दिया गया है. इसलिए ये ट्रेन नंबर कोलकाता शहर और उसके आसपास के इलाकों में रहने वालों को ही मिलता है.

5. जब पहला अंक हो चार ‘4’

जिन ट्रेनों का नंबर अंक 4 से शुरू होता है तो ये ट्रेनें भी पूरे देश में नहीं बल्कि दिल्‍ली, चेन्‍नई, हैदराबाद या ऐसे ही किसी मेट्रो सिटी में रहने वालों के लिए चलती हैं. इसे ऐसे समझिये दिल्‍ली की मेट्रो ट्रेनों के नंबर 4NXPX कुछ इस तरह से होते हैं.

6. जब पहला अंक हो पांच ‘5’

अंक 5 से शुरू होने वाली ट्रेंनें पैसेंजर होती हैं, जिनमें हमेशा से प्रचलित कोच लगे होते हैं. इन ट्रेनों में यात्रियों को कोई विशेष सुविधाएं नहीं मिलती हैं.

7. जब पहला अंक हो छह ‘6’

अगर किसी ट्रेन का नंबर 6 अंक से शुरू हो रहा है तो वह मेमो ट्रेन है जो कम दूरी वाले किन्हीं दो बड़े शहरों के बीच चलती हैं और ग्रामीण इलाकों से शहर आने वालों के लिए भी उपलब्‍ध होती है.

8. जब पहला अंक हो सात ‘7’

जब कोई ट्रेन नंबर अंक 7 से शुरू होता है तो वह डीएमयू या रेल कार सेवा के तौर पर चलने वाली ट्रेन के लिए होता है. इन ट्रेनों में आगे पीछे और बीच में डीजल या इलेक्ट्रिक वाले कई इंजन लगे होते हैं.

9. जब पहला अंक हो आठ ‘8’

ट्रेन का नंबर 8 अंक से शुरू हो रहा है तो वो ट्रेन पूरी तरह से आरक्षित सुपर फास्‍ट ट्रेन है. ऐसी ट्रेनें बहुत ही कम स्‍टेशनों पर रुकती हैं.

10. जब पहला अंक हो नौ ‘9’

अंक 3 और 4 की तरह अंक 9 नंबर वाली ट्रेन भी सीमित इलाके के लिए होती हैं. ये अंक मुंबई में चलने वाली सबर्बन ट्रेनों को दिया गया है. इनमें मुंबई और आसपास के लोग सफर करते हैं.

About Ritesh Kumar 2897 Articles
Only I can change my life. No one can do it for me.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*