कभी 350 रु दिहाड़ी कमाता था ये भारतीय शख्स, आज चाय बेचकर बन गया है 18 करोड़ का मालिक

लाइव सिटिज डेस्क : चाय बेचकर प्रधानमंत्री बनने के किस्से आपने अकसर सुने होंगे, लेकिन क्या आपने कभी किसी भारतीय के विदेश में चाय बेचकर करोड़पति बनते देखा या सुना है. शायद नहीं, लेकिन 39 वर्षीय केरल निवासी रूपेश थॉमस लंदन में चाय बेचकर करोड़पति बन गए हैं.

उन्होंने लंदन में ‘टुक टुक चाय’ नाम से बिजनेस शुरू किया, जिसका मार्केट वैल्यू 18 करोड़ रुपए हो गया है. वो रेडी ब्रूड चाय बेचते हैं. उनकी चाय की सप्लाई लंदन की लग्जरी डिपार्टमेंटल स्टोर हार्वे निकोल्स में हो रही है.

सपने को दिया पंख

केरल में जन्मे रूपेश का बचपन गरीबी में गुजरा. उनके परिवार में अकसर पैसे की दिक्कत होती थी. वित्तीय परेशानियों के बावजूद रूपेश ने पढ़ाई नहीं छोड़ी और उन्होंने मद्रास यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की. उनका विदेश में नौकरी करने का सपना था. सपने को पूरा करने के लिए साल 2002 में 795 डॉलर यानी करीब 55 हजार रुपए लेकर लंदन पहुंच गए.

मैकडॉनल्ड्स में की नौकरी

लंदन पहुंचने के बाद रूपेश को मैकडॉनल्ड्स में नौकरी मिली. लंदन में काम को लेकर उत्साहित रूपेश को यह नौकरी अच्छी लगी. यहां उनको 5.30 डॉलर प्रति घंटे के हिसाब से पेमेंट मिलती थी. एक हफ्ते के अंदर उन्होंने दूसरा पार्ट टाइम जॉब ढूंढ लिया, जो डोर-टू-डोर सेल्समैन का था.

ऐसे आया चाय बेचने का आइडिया

दिसंबर 2014 में अपनी पत्नी अलेक्जेंडर के साथ स्वदेश लौटे रूपेश को अपने गांव से चाय बेचने का आइडिया मिला. रूपेश की पत्नी को दूध वाली चाय अच्छी लगी. यहीं रूपेश को टुक टुक चाय का बिजनेस शुरू करने का आइडिया आया.

करीब 2 लाख डॉलर से शुरू किया बिजनेस

रूपेश ने 2 लाख डॉलर से अपने बिजनेस की शुरुआत की. उन्होंने अपनी बचत पूंजी बिजनेस शुरू करने में लगा दिया.

मेहनत से मिली सफलता

रूपेश का कहना है कि मैंने लंदन में चाय बिजनेस पर एक दांव लगाया था. जिसमें उनको सफलता मिली. रूपेश के मुताबिक, अमीर बनने के पीछे कोई मैजिक फॉर्मूला नहीं है. मैंने यह सफलता मेहनत और लगन से पाई है. मेरे अंदर सफल बनने की भूख है और मैंने इसे हासिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी.

About Ritesh Kumar 2861 Articles
Only I can change my life. No one can do it for me.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*