क्या आप जानते हैं कि शर्ट की कॉलर में 2 बटन्स और शर्ट के पीछे लूप क्यों होते हैं?

लाइव सिटीज डेस्क : आपने शर्ट की कॉलर में लगे दो बटन्स देखे होंगे. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसके पीछे क्या वजह है? क्यों कॉलर में दो बटन्स लगे होते हैं? इसका चलन कब से शुरू हुआ? इतना ही नहीं, पहले शर्ट में पीछे एक लूप भी होता था, इसके पीछे भी एक खास वजह होती थी. तो चलिए हम आपको बताते हैं इसके पीछे की वजह.

कॉलर में लगी दो बटन्स को बटन डाउन कॉलर कहते हैं



कॉलर में लगी दो बटन्स को बटन डाउन कॉलर कहा जाता है. इस ट्रेंड की शुरुआत Ivy League के पोलो खिलाड़ी ने की थी. वे चाहते थे कि उनके शर्ट की कॉलर घुड़सवारी करते वक्त चेहरे से दूर रहे. इसलिए उन्होंने बटन डाउन कॉलर शर्ट पहनना शुरू कर दिया. ये तकनीक, कॉलर फ्लैप को खिलाडियों के चेहरे से दूर रखने में मदद करती थी। लेकिन धीरे-धीरे ये फैशन बन गया.

लूप शर्ट को हुक पर टांगने के काम आते थे

पहले के समय में लोगों के पास हैंगर्स, अलमारी या वॉर्डरोब जैसी कोई चीज नहीं होती थी. शर्ट में लगे ये छोटे से लूप शर्ट को हुक पर टांगने के काम आते थे और कपड़ों पर रिंकल्स भी नहीं पड़ते थे.

क्या आपको पता है लड़कियों की शर्ट में पॉकेट क्यों नहीं होती? इसकी वजह है मजेदार
शर्ट में लगे लूप की शुरुआत नाविकों ने की

शर्ट में लगे लूप की शुरुआत नाविकों ने की थी, वे इन्हें कपड़े चेंज करते समय जहाज में बने हुक पर टांग देते थे. धीरे-धीरे ये फैशन पानी से आम लोगों के बीच छाने लग गया. इसकी शुरुआत अमेरिका में बने ऑक्सफोर्ड बटन डाउन शर्ट से 1960 में हुई, दूसरे ब्रांड्स भी इस ट्रेंड को फॉलो करने लग गए. बाद में ये फैशन अमेरिका की पॉपुलर Ivy League में भी काफी पॉपुलर रहा.

कॉलर में दो बटन्स का ट्रेंड आम लोगों में खासा लोकप्रिय है. वॉर्डरोब और हैंगर्स के आने के बाद शर्ट में लगे ये लूप महज एक डिजाइन बनकर ही रह गए हैं.